Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर मेट्रो। बारादेवी-नौबस्ता एलिवेटेड सेक्शन में शुरू हुआ U-गर्डर परिनिर्माण; किदवई नगर में रखा गया पहला गर्डर।

    कानपुर मेट्रो। कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के पहले कॉरिडोर (आईआईटी-नौबस्ता) के अंतर्गत बारादेवी से नौबस्ता के बीच तैयार हो रहे लगभग साढ़े 5 किमी. लंबे एलिवेटेड सेक्शन में U-गर्डर परिनिर्माण (इरेक्शन) का शुभारंभ हो गया है। दिनांक 20 जनवरी 2023 और 21 जनवरी 2023 की दरमियानी रात को किदवई नगर इलाक़े में पिलर नंबर- 56 और 57 पर उक्त सेक्शन का पहला U-गर्डर रखा गया। इस सेक्शन में कुल 346 U-गर्डर रखे जाने हैं, जिनकी औसत लंबाई लगभग 28 मीटर और वज़न लगभग 168 मीट्रिक टन होगा।

    इस अवसर पर मेट्रो इंजीनियरों की टीम को बधाई देते हुए उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लि. (यूपीएमआरसी) के प्रबंध निदेशक  सुशील कुमार ने कहा, “कानपुर मेट्रो में सिविल निर्माण की प्रगति प्रशंसनीय है। आईआईटी से मोतीझील के बीच समय पर मेट्रो सेवाएँ शुरू करने के बाद, अब हमारा लक्ष्य है कि पहले कॉरिडोर के शेष हिस्से (चुन्नीगंज-नौबस्ता) के निर्माण कार्यों को भी समय पर पूर्ण किया जाए।

    बारादेवी-नौबस्ता एलिवेटेड सेक्शन में निर्माण कार्यों का शुभारंभ दिनांक: 8 अगस्त 2022 से हुआ था और इस सेक्शन में 27 दिसंबर 2022 को पहला पियर कैप रखा गया था। 5 एलिवेटेड मेट्रो स्टेशनों के साथ तैयार हो रहे इस सेक्शन में कुल 276 पियर (पिलर) होंगे, इनमें से वायडक्ट के लिए 166 पियर होंगे, जिनपर पियर कैप्स रखे जाएँगे और मेट्रो स्टेशनों के आधारस्वरूप लगभग 110 पियर होंगे। अभी तक इस सेक्शन में 18 पियर तैयार हो गए हैं और 5 पियर्स पर पियर कैप रखे जा चुके हैं। 

    मेट्रो अवसंरचना में पियर निर्माण स्थल पर ही तैयार होते हैं, जबकि पियर कैप और गर्डर प्री कास्ट होते हैं, जिन्हें कास्टिंग यार्ड में तैयार किया जाता है और फिर क्रेन की सहायता से कॉरिडोर में निर्धारित स्थान पर रखा जाता है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.