Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    लखीमपुर खीरी। सड़क सुरक्षा माह : एआरटीओ ने दिया सड़क सुरक्षा का मंत्र 'परवाह करेंगे सुरक्षित रहेंगे।

    • ट्रैफिक सुरक्षा से जुड़े नियमों से रूबरू हुए छात्र, अफसरों ने पढ़ाया सड़क सुरक्षा का पाठ
    • वाईडीसी में हुआ भव्य कार्यक्रम, विद्यार्थियों ने लिया संकल्प, ट्रैफिक जागरूकता दूत बनकर समाज में 

    लखीमपुर खीरी। सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान के अंतर्गत बुधवार को युवराज दत्त स्नातकोत्तर महाविद्यालय में सड़क सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यशाला एवं संगोष्ठी का आयोजन हुआ। महाविद्यालय में विभिन्न कार्यक्रम हुए जिसमें विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

    संगोष्ठी में एआरटीओ रमेश कुमार चौबे ने कहा कि  हेलमेट सदैव अच्छी क्वालिटी का लेना चाहिए। जो लोग तर्क देते हैं कि हेलमेट से बाल बिगड़ जाते हैं तो उनको बताया कि यदि सर ही सलामत नहीं रहेगा तो बाल का क्या करोगे। इसलिए पहले सर की सुरक्षा करो। जब भी हेलमेट लगाएं तो उसकी बेल्ट जरूर लगाएं। सड़क सुरक्षा के नियमों की अवहेलना स्वयं के साथ अन्य के परिवारों को अपनी जान गवानी पड़ती है। आज जरूरत है कि सड़क सुुरक्षा के नियमों का कड़ाई के साथ अनुपालन हो और अन्य को भी जागरूक करने की पहल की जाये, जिसमें आप सभी विद्यार्थियों का सहयोग अपेक्षित है।

    एआरटीओ प्रशासन आलोक कुमार सिंह ने कहा कि सड़क सुरक्षा लोगों के जीवन से जुड़ा हुआ है। सभी को वाहन चलाते समय सतर्कता बरतनी जरूरी है। उन्होंने सड़क दुर्घटना के कई कारणों को गिनाते हुए कहा कि सड़क दुर्घटना के पीछे लोगों द्वारा किए गए सड़क मार्गों पर अतिक्रमण भी बताया। सभी को सड़क सुरक्षा के संकेतों का पालन करना चाहिए। तभी होने वाली दुर्घटनाओं पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

    क्षेत्राधिकारी ट्रैफिक सुबोध जायसवाल ने छात्र-छात्राओं को ट्रैफिक सुरक्षा संबंधित आवश्यक बातों से परिचित कराया। उन्होंने बताया कि यातायात पुलिस किस प्रकार एक यातायात मित्र की भांति कार्य करती है। यातायात से संबंधित सामान्य संकेतों एवं नियमों को बारीकी से बताया। 

    कार्यक्रम की प्रस्तावना युवराज दत्त महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ हेमंत पाल ने दी। उन्होंने बताया कि सड़क सुरक्षा के नियमों का अनुपालन करते हुए दुर्घटना से बचा जा सकता है। वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग न करें। व्यक्ति को रक्षा और सुरक्षा दोनों की आवश्यकता है। इसलिए सड़कों पर सीमित गति से वाहन चलाये। सड़क सुरक्षा के नियमों की लापरवाही के कारण काफी संख्या में लोग विकलांग हो जा रहे है। 

    इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के सभी विभागाध्यक्ष प्रवक्ता करीब सैकड़ों की संख्या में छात्र छात्राएं, ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर जेपी यादव, महाविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर डॉ सुभाष चंद्रा सहित यातायात विभाग के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.