Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    हरदोई। ऑक्सीजन खींचने से हुई मरीज़ की मौत पर हुआ हंगामा, शहर के निजी हास्पिटल पर इस तरह का लगा आरोप।

    .......... 31 दिसंबर को बहनोई के यहां गिरने से टूटा था पैर

    हरदोई। बहनोई के घर आया उसका साला ज़ीने से गिर पड़ा था। जिससे उसका पैर टूट गया था।उसे शहर के एक निजी हास्पिटल में भर्ती कराया गया। आरोप है वहां के डाक्टरों ने देर रात में जवाब दे दिया। इतनी रात में जवाब दिए जाने की बात पर वहां हाथापाई होने लगी। इसी दौरान ऑक्सीजन पर चल रहे मरीज़ की ऑक्सीजन खींच ली गई। जिससे उसकी वहीं मौत हो गई। मरीज़ की इस तरह मौत होने से गुस्साए लोगों ने वहां हंगामा करना शुरू कर दिया। खबर मिलते ही यूपी-112 वहां पहुंची और सारे मामले की छानबीन की, इसके बाद शव को कब्ज़े में ले कर उसका पोस्टमार्टम कराया गया है।

    बताया गया है कि उन्नाव ज़िले के माहपरा पुर थाना फत्तेपुर चौरासी निवासी 40 वर्षीय प्रदीप कुमार पुत्र काशी प्रसाद 31 दिसंबर को अपने बहनोई नन्हेलाल निवासी ऊंचा थोक साण्डी रोड कोतवाली शहर आया हुआ था। जहां 1 जनवरी को वह ज़ीने से गिर पड़ा था। उसके पैर में फ्रैक्चर हो गया था। नन्हेलाल के पुत्र रोहित कुमार ने बताया है कि उसके मामा प्रदीप कुमार को शहर के एक निजी हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। वहीं उसका इलाज चल रहा था। इसी दौरान शुक्रवार की देर रात को वहां के डाक्टरों ने यह कहते हुए जवाब दे दिया। रोहित का कहना था कि उसके मामा ऑक्सीजन पर चल रहे थे। जब उसने इतनी रात में जवाब देने की वजह पूछी तो वहां मौजूद लोगों ने उससे हाथापाई शुरू कर दी और तो और मरीज़ के लगी ऑक्सीजन खींच ली। आरोप है कि ऑक्सीजन खींचते ही प्रदीप कुमार ने वहीं पर दम तोड़ दिया। इस तरह की हरकत से गुस्साए लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। रोहित ने यूपी-112 पर अपनी शिकायत दर्ज कराई। जिस पर वहां पहुंची पुलिस ने पहले तो मामले की छानबीन की, उसके बाद पोस्टमार्टम के लिए शव को अपने कब्ज़े में लिया। मामले को ले कर सारे शहर में काफी चक-चक मची हुई है।

    • आखिर कब तक होता रहेगा ज़िंदगियों से खिलवाड़ ?

    शहर के निजी हास्पिटल के ऊपर जो आरोप लगाया गया है,वह कोई नया नहीं है। इससे पहले कैनाल रोड पर एक नर्सिंग होम में या सर्कुलर रोड पर एक निजी हास्पिटल में अलग-अलग गर्भवती की मौत हो चुकी हैं। इससे पहले भी तमाम इसी तरह के मामले सामने आए। सबसे खास बात तो यह है कि स्वास्थ्य महकमें के ज़िम्मेदार पहले तो इस तरह के मामलों पर सख्त कार्रवाई करने की बात कहते हैं। पहले तो जांच होने की बात सामने आती है फिर सब कुछ ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है। लाख टके का सवाल है कि आखिर इस तरह कब तक दूसरों की ज़िंदगियों से खिलवाड़ किया जाता रहेगा ?

    • पुलिस ने मामला दर्ज कर शुरू की जांच

    ऑक्सीजन खींचने से हुई मौत के मामले में एएसपी पूर्वी अनिल कुमार यादव ने बताया है कि रोहित कुमार पुत्र नन्हेलाल ने तहरीर देते हुए बताया कि निजी हास्पिटल में उसके मामा के पैर का आपरेशन हुआ था। वहां काम करने वालों ने उसके मामा की ऑक्सीजन खींच ली। उनकी इसी लापरवाही के चलते मामा प्रदीप की मौत हो गई। एएसपी पूर्वी श्री यादव का कहना है कि रोहित की तहरीर पर मामला दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी गई है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.