Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    गाजीपुर। उसरी चट्टी कांड में एक नया मोड़ आया सामने, मुख्तार अंसारी सहित पांच के खिलाफ हत्या का मुकदमा।

    .......... उसरी चट्टी कांड में 21 साल बाद वादी मुख्तार सहित पांच पर मुकदमा दर्ज

    महताब आलम\गाजीपुर। उसरी चट्टी कांड में एक नया मोड़ आया है ।इस गोलीकांड में मारे गए मनोज राय के पिता की तहरीर पर मुख्तार अंसारी के खिलाफ  मुहम्मदाबाद थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। जानकारी के अनुसार मनोज के पिता शैलेन्द्र कुमार राय ने सीएम, डीजीपी, लॉ एंड ऑर्डर को प्रार्थना पत्र देकर अपने बेटे मनोज की मौत के लिए मुख्तार अंसारी को आरोपी बताया है। जिसके बाद शासन के आदेश पर मुख्तार अंसारी के खिलाफ मुहम्मदाबाद कोतवाली में 20 जनवरी को इस प्रकरण में एफआईआर दर्ज की गई है।

    पुलिस अधीक्षक ओमवीर सिंह

    मुख्तार अंसारी पर 20 जनवरी को दर्ज किए गए एफआईआर  की पुष्टि करते हुए मुहम्मदाबाद कोतवाल अशोक मिश्र ने बताया कि मनोज राय के पिता की  ओर से उनके बेटे मनोज राय की मौत के लिए मुख्तार अंसारी को जिम्मेदार बताया गया है। ऐसे में मुख्तार अंसारी के साथ कुल 5 लोगों पर नामजद एफआईआर मुहम्मदाबाद थाने में दर्ज की गई है। मृतक के पिता के अनुसार मनोज राय मुख्तार अंसारी के साथ संयुक्त रूप से ठेकेदारी का काम करता था।बाद में वह पृथक रूप से काम करने की मंशा जाहिर किया।मनोज राय ने कुछ ठेके के टेंडर मुख्तार अंसारी से अलग होकर डाल दिया था। दोनों के बीच ठेकेदारी को लेकर के विवाद हुआ, फिर ठेकेदारी के कामों के बंटवारे को लेकर समझौता भी हुआ। शैलेंद्र राय के अनुसार 13 जुलाई 2001 को मुख्तार अंसारी अपने अन्य चार साथियों के साथ मनोज को घर से लेकर के आए।बाद में मनोज की  हत्या कर दी गई। मनोज की हत्या कर सुनियोजित ढंग से मनोज राय की हत्या को उसरी चट्टीगोली कांड से जोड़ दिया गया था। शैलेंद्र राय ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें मनोज राय का अंतिम संस्कार करने नहीं दिया गया था बाद में उन्हें फोटो दिखाकर उनके बेटे की शिनाख्त करने को कहा गया था।

    बता दें कि 15 जुलाई 2001 को उसरी चट्टी गोलीकांड में मुख्तार अंसारी के काफिले पर हमला हुआ था। जिसमें वादी मुकदमा मुख्तार अंसारी की ओर से बृजेश सिंह त्रिभुवन सिंह एवं अन्य को नामजद कराया गया था ।इस गोलीकांड का मामला गाजीपुर की एमपी एमएलए कोर्ट में विचाराधीन था । पिछले दिनों इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस  केस के लोअर कोर्ट में विचरण पर स्टे लगा दिया है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.