Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    लखीमपुर खीरी। ई-केवाईसी कराने वाले किसानों को ही मिलेगा किसान सम्मान निधि का लाभ

    ......... झटपट करा लें ई-केवाईसी, वरना नहीं मिलेगी पीएम किसान सम्मान निधि का किस्त। 

    शाहनवाज गौरी\लखीमपुर खीरी। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत सभी कृषकों का ई-केवाईसी किए जाने के लिए पीएम किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत समस्त कृषकों का ई-केवाईसी होना जरूरी है, परन्तु जनपद खीरी में अभी तक मात्र 67 प्रतिशत कृषकों का ही ई-केवाईसी हो पाया है, 33 प्रतिशत कृषकों (217986) की ई-केवाईसी की प्रक्रिया अवशेष है। भारत सरकार द्वारा यह निर्देश दिया है कि जनवरी माह में मिलने वाली अगली किस्त का भुगतान केवल उन्ही कृषकों को किया जायेगा, जिनकी ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूर्ण हो चुकी है।

    प्रतीकात्मक:फोटो

    उप कृषि निदेशक अरविंद मोहन मिश्रा ने कहा कि पीएम किसान पोर्टल के मुताबिक पीएम किसान के रजिस्टर्ड किसानों के लिए eKYC जरूरी है। इसमें किसानों को सलाह दी कि आधार आधारित ओटीपी प्रमाणीकरण के लिए किसान कॉर्नर में ईकेवाईसी विकल्प पर क्लिक करें और बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के लिए निकटतम सीएससी केंद्रों से संपर्क करें। सभी कृषक भाईयों से अनुरोध की जिन्होने अभी तक अपने पीएम किसान पंजीकरण का ई-केवाईसी नही कराया है, वह स्वयं अथवा जनसुविधा केन्द्र के माध्यम से अपना ई–केवाईसी 15 जनवरी तक अवश्य पूर्ण करा लें। अन्यथा पी०एम० किसान योजना में मिलने वाली अगली किस्त का लाभ प्राप्त नहीं होगा।

    • ऐसे पूरा करें ई-केवाईसी

    इसके लिए सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं। अब किसान कॉर्नर विकल्प पर eKYC लिंक दिखाई देगा। इस पर क्लिक करें। अपना आधार नंबर दर्ज करें और सर्च बटन पर क्लिक करें। इसके बाद यहां मांगी गई जरूरी जानकारियों को दर्ज करें। इसके बाद सब्मिट पर क्लिक करते ही प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। स्टेटस चेक करने के लिए सबसे पहले pmkisan.gov.in वेबसाइट पर जाएं। अब 'Farmers Corner' के ऑप्शन (Beneficiary Status) पर क्लिक करें। अब किसान अपना मोबाइल नंबर या पंजीकरण संख्या लिखकर स्टेट्स देख सकते है। इसमें आप अपनी किस्त का विवरण देख सकते हैं। इसमें धनराशि ना प्राप्त होने की दशा में कारण भी दिखेगा।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.