Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कन्नौज। कन्नौज में प्रशसन के गरीबों व निराश्रितों को ठंड से बचाने के दावे रियलिटी चेक में हवा हवाई साबित हुये।

    रहीश खान\कन्नौज। कन्नौज में प्रशसन के गरीबों व निराश्रितों को ठंड से बचाने के दावे रियलिटी चेक में हवा हवाई साबित हुये। यहां 4 डिग्री पारे में गरीब निराश्रित खुले में बच्चे के साथ रात गुजारते हुये दिखाई दिये। पूछने पर पता चला की सभी मांगकर गुजारा करते हैं और शेल्टर होम में रात गुजारने के लिये उनके पास आधार कार्ड नही है। 

    कन्नौज जिला प्रशासन ठंड से बचाव कर लिये जिले में 10 रैन बने होने का दावा कर रहा है। बाकायदा रैन बसेरों की लिस्ट बनाई गई है। उस पर डीएम का दावा है कि एक भी निराश्रित गरीब को ठंड में नही ठिठुरने दिया जाएगा। कन्नौज डीएम निराश्रितों को रैन बसेरे तक पहुंचाने के क्या दावे कर चुके हैं आप खुद सुनिये। 

    शुभ्रांत कुमार शुक्ला (डीएम कन्नौज)

    दूसरी तरफ जब हमने देर रात रैन बसेरों और अलाव का रियलिटी चेक किया तो डीएम के दावों की हवा निकलती दिखाई दी। आप खुद देखिये किस तरह कन्नौज बस स्टेशन पर रैन बसेरे के बगल में ही बेघर महिला अपने बच्चे व 2 अन्य लोग खुले में बर्फ़ीली हवा के बीच रात गुजार रहे हैं। 

    • खुले में रात गुजार रही महिला

    खुले में रात गुजारने वालों की माने तो आधार कार्ड न होने के कारण उन्हें रैन बसेरे में नही सोने दिया जाता। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रशासन ठंड में ठिठुरते लोगों को राहत पहुंचाने के लिये मानवीय दृष्टिकोण को दरकिनार कर सरकारी कोरम पूरा करने के बाद ही ठंड से बचाएगा। बिना आधार कार्ड वालों को लेकर प्रशासन की कोई जिम्मेदारी नही है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.