Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    हापुड़। रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर 5 घंटे बाद बोरबेल से निकाला बच्चा।

    .......... एनडीआरएफ को टीम ने रेस्कयू कर बचाई बच्चें की जान

    हापुड़। हापुड़ देहात क्षेत्र के मोहल्ला कोटला सादात में एक 4 साल का मूकबधिर मासूम मंगलवार को नगर पालिका के बंद पड़े नलकूप के बोरवेल में गिर गया। जिससे क्षेत्र में अफरातफरी मच गई। जिसकी सूचना पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को दी गई। मौके पर पहुंचे प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने बच्चे को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया। आनन फानन में गाजियाबाद से एनडीआरएफ की टीम को भी बुलाया गया। जिसने कड़ी मशक्कत के बाद 5 घंटे में बच्चे को बोरवेल से निकल लिया। जानकारी के अनुसार कोटला सादात निवासी मोहसिन का चार वर्षीय पुत्र माबिया मोहल्ले के बच्चों संग खेल रहा था। माबिया खेलते हुए अचानक नगरपालिका के बंद पड़े ट्यूबेल के एक कमरे में चला गया। 

    जहाँ अंधेरा होने के चलते बच्चा खुले पड़े बोरबेल में गिर गया। जिससे उसके साथ खेल रहे बच्चों में चीख पुकार मच गई। बच्चों की चीख पुकार सुनकर मोहल्लेवासी घटनास्थल पर पहुंचे। हादसे की जानकारी मोहल्ले में आग की तरह फैल गई। सैकड़ों की संख्या में लोग और बच्चे के परिजन मौके पर पहुंचे। बच्चे के बोरवेल में गिरने की सूचना मिलते ही जिलाधिकारी मेधा रूपम, एसपी दीपक भूकर, अपर जिलाधिकारी, श्रद्धा शांडिल्यान अपर पुलिस अधीक्षक, मुकेश मिस्र, एसडीएम सुनीता सिंह फायर ब्रिगेड के मनु शर्मा समेत अनेक अधिकारी मौके पर पहुंचे गए। बच्चे को निकलवाने के लिये गाजियाबाद से एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया। बच्चे को सकुशल निकालने के प्रयास करते हुए बोरबेल में ऑक्सीजन, दूध की बोतल व रोशनी व कैमरे से पल पल की स्थिति पर नजर रखी गई। पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर ने जानकारी पर बताया कि बोरवेल से बच्चे के रोने की आवाज आ रही है। वह सुनने और बोलने में असक्षम है। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी/कर्मचारी बच्चे को बचाने में लगे हुए हैं। बोरबेल करीब 50 फीट गहरा हो सकता है। जिसकी चौड़ाई करीब डेढ़ फुट है। बताते चलें कि नगर पालिका ने करीब 35 साल पूर्व यहां नलकूप लगवाया था। जोकि पिछले 10 सालों से बंद हो था। बोरवेल का गड्ढा पालिका ने बंद नहीं कराया गया था। पालिका अध्यक्ष व प्रशासनिक अधिकारियों ने भी इस ओर कोई सुध नहीं ली थी। एनडीआरएफ की टीम ने लोहे के रिंग का फंदा बनाकर बच्चे को निकालने का प्रयास शुरू किया जिसमें उन्हें कामयाबी मिल गई। सीएमओ डॉ सुनील त्यागी ने बताया कि बच्चे का रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा होने पर तत्काल उसे उपचार के लिए सीएचसी के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है। जहां बच्चे का उपचार जारी है। बच्चे के परिजनों ने प्रशासनिक अधिकारियों व पुलिस का इस मुश्किल स्थिति में साथ देकर उनके बच्चे को बचाने पर आभार प्रकट किया है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.