Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    नई दिल्ली। भारत के अंतरराष्ट्रीय विज्ञान फिल्म महोत्सव में 59 देशों से मिली प्रविष्टियां।

    नई दिल्ली (इंडिया साइंस वायर)। इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल (आईआईएसएफ)-2022 के एक प्रमुख घटक के रूप में इंटरनेशनल साइंस फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (आईएसएफएफआई) का आयोजन आगामी 21 से 23 जनवरी को भोपाल में किया जा रहा है। आईआईएसएफ के 8वें संस्करण के अंतर्गत आयोजित होने वाले इस अंतरराष्ट्रीय विज्ञान फिल्मोत्सव में 59 देशों से विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार पर आधारित कुल 437 फिल्म प्रविष्टियां प्राप्त हुई हैं। 

    आईएसएफएफआई के समन्वयक और विज्ञान प्रसार के वरिष्ठ वैज्ञानिक निमिष कपूर ने बताया है कि “विज्ञान फिल्मोत्सव के अंतर्गत विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शोध तथा विकास से जुड़े विविध विषयों पर चार श्रेणियों में फिल्म प्रविष्टियां आमंत्रित की गई थीं। प्राप्त 437 प्रविष्टियों में से 61भारतीय और 33 विदेशी फिल्मों को समारोह के लिए नामांकित किया गया है। भारत, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, रूस, कनाडा, इज़राइल, फिलीपींस, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया सहित अन्य देशों की पुरस्कृत विज्ञान फिल्मों की विशेष स्क्रीनिंग फिल्मोत्सव में की जाएगी। फिल्म महोत्सव में किसी प्रकार का शुल्क नहीं रखा गया है। 21 से 23 जनवरी 2023 के दौरान इन फिल्मों की स्क्रीनिंग में बच्चों और छात्रों समेत हर आयु वर्ग के लोग आकर फिल्में  देख सकते हैं।”

    इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल (आईआईएसएफ)-2022 का आयोजन 21 से 24 जनवरी को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में किया जा रहा है। आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में आयोजित हो रहे आईआईएसएफ के 8वें संस्करण की प्रमुख विषयवस्तु ‘विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के साथ अमृतकाल की ओर अग्रसर’ है। चार दिवसीय आईआईएसएफ के दौरान 15 अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जिनमें तीन दिवसीय इंटरनेशनल साइंस फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (आईएसएफएफआई) शामिल है। विज्ञान फिल्म महोत्सव का आयोजन 21 से 23 जनवरी को पं. खुशीलाल शर्मा गवर्नमेंट आयुर्वेद कॉलेज ऐंड इंस्टीट्यूट, भोपाल में किया जा रहा है। 

    आईएसएफएफआई के लिए नामांकित फिल्मों का चयन विशिष्ट निर्णायक मंडल द्वारा किया गया है। विज्ञान कथा, विज्ञान वृत्तचित्र, एनिमेशन, लघु फिल्म और सूचनात्मक विज्ञान वीडियो के रूप में प्रतिभागियों से गत 25 दिसंबर 2023 तक फिल्म प्रविष्टियां आमंत्रित की गई थीं। आईएसएफएफआई की श्रेणियों में स्थायी विकास के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार; जलवायु परिवर्तन को संबोधित करने के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार; बेहतर जीवन के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार; और एक गैर-प्रतिस्पर्धी श्रेणी शामिल है। फिल्म महोत्सव में विज्ञान फिल्मों के अवलोकन के साथ-साथ दर्शकों को फिल्मकारों से मिलने का अवसर भी मिल सकता है। 

    आईआईएसएफ का आयोजन भारत सरकार के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस); विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी); जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी); वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) द्वारा मध्य प्रदेश सरकार; मध्य प्रदेश विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद; और विज्ञान भारती के सहयोग से किया जा रहा है। अंतरिक्ष विभाग (डीओएस) और परमाणु ऊर्जा विभाग (डीएई) की सहभागिता इस वर्ष आईआईएसएफ का एक अतिरिक्त आकर्षण होगी। 

    इस अंतरराष्ट्रीय विज्ञान फिल्म महोत्सव का उद्देश्य विज्ञान फिल्मों और फिल्म निर्माताओं के माध्यम से विज्ञान संचार और विज्ञान फिल्म निर्माण की रोमांचक यात्रा को प्रोत्साहन प्रदान करना है। विज्ञान फिल्मोत्सव की तीन प्रतियोगी श्रेणियों के अंतर्गत चुनी गई उत्कृष्ट विज्ञान फिल्मों के लिए 11 पुरस्कार प्रदान किये जाएंगे। विज्ञान फिल्म महोत्सव वैज्ञानिक चेतना, तार्किकता एवं विश्लेषणात्मक सोच को आकार देने में भूमिका निभाता  है। दूसरी ओर, फिल्म जैसे लोकप्रिय माध्यम द्वारा यह महोत्सव उत्साही छात्रों और फिल्मकारों को विज्ञान से जुड़ने का अवसर भी प्रदान करता है। 

    (इंडिया साइंस वायर)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.