Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    लखनऊ। नशा मुक्त अभियान की शपथ दिलाकर लगभग तीन सौ वृद्ध महिलाओं, निराश्रित महिलाओं व जरूरतमंदों को कंबल वितरण कार्यक्रम किया आयोजित।

     ........ स्वतंत्रता, समानता और संप्रभुता से गरिमा पूर्ण जीवन जीने के संदेश के साथ दिखाया गया युवा पीढ़ी को नशा मुक्त रहने का रास्ता 

    .......... वृद्ध,निराश्रित और गरीबों को वितरित गए लगभग तीन सौ कंबल

    लखनऊ। डा. अंबेडकर जी के परिनिर्वाण दिवस पर सरोजनीनगर के भदरूक, बंगला बाजार ,लखनऊ में नशामुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के तहत युवा नेत्री नेहा सिंह  द्वारा नशा मुक्त अभियान की शपथ दिलाकर लगभग तीन सौ वृद्ध महिलाओं, निराश्रित महिलाओं व जरूरतमंदों को कंबल वितरण कार्यक्रम आयोजित किया, तथा वहां उपस्थित युवा बच्चों, और महिलाओं को नशा मुक्त अभियान से जोड़ा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि शहरी आवासन एवं शहरी कार्य राज्यमंत्री, भारत सरकार कौशल किशोर रहे। मुख्य अतिथि ने जरूरतमंदों एवं वृद्धजनों को कंबल वितरण किया और उपस्थित समस्त जनमानस को अपनी जिंदगी में कभी भी नशा न करने का संकल्प कराया।

    बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि व्यक्त की गई । कौशल किशोर ने कहा कि बाबा साहब सभी वंचित शोषित और अन्याय से ग्रसित लोगों के मसीहा तो थे ही, उनके अथक प्रयास से ही आज भारत आजादी के बाद स्वतंत्रता पूर्वक संविधान के अनुसार जीवन व्यतीत कर गर्व का अनुभव कर रहा है। बाबा भीमराव जी के जीवन का सपना जिसमें स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व पर आधारित समाज बनाने की कल्पना की गई थी। स्वतंत्रता के बाद हमारे देश के नागरिकों को समर्पित संविधान का सच्चे अर्थों में आदर तभी हम कर सकते हैं जब अपने देश से नशे को हमेशा के लिए दूर हटा सकें और हमारा हिंदुस्तान नशा मुक्त बन सके। आने वाली पीढ़ी को मिलकर अपने जीवन में कभी नशा न करने का संकल्प दिलाया जाए क्योंकि यदि हमारे बच्चे और नई पीढ़ी नशा नहीं करेंगे तो उनमें बंधुत्व की भावना प्रबल होगी। युवा अपने माता पिता, भाई –बहन अपने परिवार और पड़ोसियों का सम्मान कर सकेंगे। आपस में असमानता से उपजे विवाद स्वत: खत्म हो जाएंगे, महिलाओं का शोषण रुक जाएगा औरनशे को अपने जीवन से न कहकर ही हम सब स्वतंत्रता की सही परिभाषा जान सकेंगे।

    भारतीय नागरिक परिषद के महामंत्री रीना त्रिपाठी ने सभी को बताया कि आज समय आ गया है कि हमारे बीच की बेटियां , बहनें और माताएं अपनी असुरक्षा ,अपने ऊपर होने वाली प्रताड़ना के लिए मिलकर आवाज उठाएं ,इसका बहुत ही जमीनी और कारगर तरीका है कि हम अपने बच्चों को नशे के दलदल में गिरने से रोक ले। प्रत्येक मां को अपनी बेटी की शादी में ध्यान से पूछना चाहिए की लड़का नशा तो नहीं करता ।यदि विवाह और नए परिवार में नशे का प्रवेश नहीं होगा तो निश्चित रूप से मेहनत कर मजदूरी, रोज़गार कर  अपने स्वविवेक से निर्णय लेकर देश और समाज की तरक्की में युवा पीढ़ी योगदान दे सकेगी।

    इस अवसर पर कार्यक्रम आयोजक  नेहा सिंह प्रदेश कार्य समिति युवा मोर्चा, सांसद प्रतिनिधि प्रवीण अवस्थी,  रीना त्रिपाठी, टीम कौशल से सिद्धार्थ पांडे उर्फ डम्पी , पार्षद कमलेश सिंह, संसदीय कार्यालय प्रभारी प्रवीन तिवारी बाबा , रणविजय सिंह, आकाश सिंह, सोमेंद्र सिंह, दीपांशु, ज्ञानचंद्र उर्फ ज्ञानी प्रदीप, सोनू गौर सहित सैंकड़ों भद्रुख निवासी उपस्थित  रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.