Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहाँपुर। जिलाधिकारी ने कौशल विकास प्रशिक्षण केन्द्रो का किया आकस्मिक निरीक्षण।

    • तकनीकी शिक्षा के महत्व एवं उपयोगिता के विषय में बताते हुए मेहनत से प्रशिक्षण पूर्ण करने हेतु किया प्रोत्साहित
    • सीसीटीवी कैमरा लगाने एवं उपस्थिति में सुधार लाने हेतु दिये कड़े निर्देश

    फै़याज़ उद्दीन\शाहजहाँपुर। जिलाधिकारी उमेश प्रताप सिंह ने शुक्रवार को राजकीय इण्टर कालेज एवं राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में संचालित कौशल विकास प्रशिक्षण केन्द्र का आकस्मिक निरीक्षण कर व्यवस्थाए देखी। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश दिये कि निर्धारित मानको के अनुरूप प्रशिक्षण के दौरान समस्त व्यवस्था पूर्ण रखी जाए। समस्त प्रशिक्षण स्थलों पर सीसीटीवी कैमरा लगाये जाने हेतु भी उन्होंने निर्देशित किया। उन्होने छात्रों की उपस्थिति, प्रशिक्षण की गुणवत्ता आदि के विषय में भी जानकारी ली। प्रशिक्षण केन्द्रो पर स्वच्छता व्यवस्था ठीक किये जाने के निर्देश भी दिये। 

    डीएम ने राजकीय इण्टर कालेज में डोरिक मल्टीमीडिया के माध्यम से संचालित कौशल विकास प्रशिक्षण केन्द्र के निरीक्षण के दौरान प्रशिक्षण केन्द्र में संचालित शार्ट टर्म कोर्स डाटा एंट्री ऑपरेटर तथा जूनियर सॉफ्टवेयर डेवलपर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे प्रशिक्षार्थियों सेे प्रशिक्षण की स्थिति के बारे जाना तथा केन्द्र पर सीसीटीवी कैमरा न लगे होने एवं प्रशिक्षार्थी की उपस्थिति कम होने पर केन्द्र संचालक को उक्त में सुधार लाने हेतु कड़े निर्देश दिये। साथ ही केन्द्र संचालक को गुणवत्ता पूर्ण प्रशिक्षण प्रदान करने एवं उपस्थिति में सुधार लाने हेतु भी निर्देशित किया।राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, रोजा में स्थापित कौशल विकास प्रशिक्षण केन्द्र के निरीक्षण के दौरान डीएम ने संस्थान में वर्तमान में कौशल विकास योजना के अन्तर्गत संचालित शार्ट टर्म कोर्स ट्रेडिशनल हैण्ड एंब्रॉयड्री व सैम्पलिंग टेलर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे अभ्यर्थियों से प्रशिक्षण की गुणवत्ता के विषय में जानकारी ली साथ ही प्रशिक्षार्थियों से यह भी पूछा कि किसी प्रकार की अवैध वसूली, फीस आदि की मॉग संस्थान द्वारा तो नही की जा रही है। साथ ही उन्होने प्रशिक्षण हेतु पाठ्यसामग्री एवं ड्रेस आदि का वितरण के सम्बन्ध में भी जानकारी ली। इसके साथ ही प्रशिक्षार्थियों की कम उपस्थिति पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की।

    प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे प्रशिक्षार्थियों से वार्ता के दौरान जिलाधिकारी ने उन्हे तकनीकी शिक्षा के महत्व एवं उपयोगिता के बारे में बताते हुए मेहनत से प्रशिक्षण पूर्ण करने हेतु प्रोत्साहित किया। साथ ही कौशल विकास प्रशिक्षण हेतु उपयोग में लाये जा रहे कक्षाओं एवं संसाधनों का भी निरीक्षण किया। जिलाधिकरी ने प्रधानाचार्य नागेन्द्र सिंह को प्रशिक्षार्थियों को गुणवत्ता पूर्ण प्रशिक्षण दिलाने के साथ ही प्रशिक्षार्थियों की उपस्थिति में सुधार लाने हेतु कड़े निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान प्रधानाचार्य नागेन्द्र सिहं, अनुदेशक/प्रभारी कौशल विकास दुर्गेश राय एवं एम.आई.एस. मैनेजर चन्दन सिंह आदि उपस्थित रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.