Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    विशेष। नींद आते ही ऊधम मचाने लगे।

    ऊधम मचाने लगे 

    नींद आते ही ऊधम मचाने लगे

    ख्वाब बेशर्म सांकल बजाने लगे

    *

    तुमने हासिल जिसे चार दिन में किया

    हमको उसमें ही कितने जमाने लगे

    *

    थक के सूरज ने आंखें जरा बंद कीं

    चांद-तारे उधर टिमटिमाने लगे

    *

    ये इलेक्शन का मौसम भी सिरदर्द है

    कान जनता के दिन रात खाने लगे

    *

    फिक्रमंदों की फेहरिस्त से हट गया

    जबसे मेरे भी बच्चे कमाने लगे

    *

    जिस्म ठंडा हुआ,लोग सब कह उठे

    जल्द से जल्द मिट्टी ठिकाने लगे

    *

    @ राकेश अचल



    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.