Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    फतेहपुर। सागौन पेड़ काटने के सात दिन बीते, अभी भी हो रही जाँच, घटना स्थल पर पुलिस-वन विभाग कर चुका पड़ताल, न तहरीर-न एफआईआर।

    ........... क्षेत्रीय वन अधिकारी का दावा, जल्द होगी विधिक कार्यवाही 

    फतेहपुर। जिले में सागौन पेड़ काटे गए तो अधिकारियों को इसकी खबर ही न लगी, हालांकि मामले की जानकारी जिम्मेदारों तक पहुंचाई गई। तो कार्यवाही की बड़ी बातें भी हुईं लेकिन सात दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक न तो थाने में तहरीर पहुंची और न ही आरोपियों के खिलाफ एफआईआर हुई। यह तब है जब संबंधित अधिकारियों को सात दिन पहले ही घटनास्थल की जानकारी, पुलिस की पड़ताल, साक्ष्य और आरोपी सब सुलभ थे। मामले पर वन विभाग के रेंजर आरएल सैनी ने कहा, जाँच की जा रही है, दो से चार दिन में कार्यवाही भी होगी।

    जिले में वन विभाग पेड़-पौधों को लगवाने से लेकर उनके संरक्षण के लिए अभिभावक की तरह मुस्तैदी से काम कर रहा है लेकिन बीते दिनों विभागीय सख्ती कहीं न कहीं कम हुई तो इसका बड़ा असर देखने को मिल रहा है। जिले के असोथर थाना क्षेत्र के सेमरी गांव में 150 सागौन के पेड़ काट डाले गए। यह तब हुआ जब इसके पहले भी करीब 600 से अधिक सागौन के पेड़ काटे गए थे। न तो तब समय से एक्शन हुआ और न ही अब तक कार्यवाही हुई है। तो वहीं मामले पर पीड़िता राज्य महिला आयोग की सदस्य अंजू प्रजापति ने कहा, सेमरी गांव में उनके लगाए सागौन के पेड़ काटे गए, लेकिन जिम्मेदारों ने अभीतक कोई एक्शन नहीं लिया। ऐसे में अधिकारियों की आखिर ऐसी कौन सी मजबूरी है जो उन्हें कार्यवाही से रोक रही है, यह बात उनकी समझ से परे है? हालाँकि वन विभाग के अधिकारी जांच के बाद कार्यवाही का दम भर कर रहे हैं। 

    "असोथर थाना क्षेत्र के सेमरी गांव में पेड़ काटे जाने के मामले की जानकारी हुई है, मौके पर वन दरोगा को भेजा गया था। जहां पेड़ काटे गए हैं उस स्थान का स्वामित्व प्रमाण पत्र, पेड़ की माप, काटे गए पेड़ किस श्रेणी के हैं, इन सभी की जाँच की जा रही है, अगले दो से चार दिन में सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा और आगे की कार्यवाही होगी।"

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.