Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    लखनऊ। यातायात सुरक्षा जागरूकता अभियान तथा बच्चों ने ली जीवन में कभी नशा न करने की शपथ।

    लखनऊ। ब्लॉक सरोजनी नगर में पूर्व माध्यमिक विद्यालय नटकुर, सरोजिनी नगर में प्रधानाध्यापिका रश्मि खरे के निर्देशन और सौजन्य से सैकड़ो बच्चों ने नशा मुक्ति अभियान और यातायात सुरक्षा अभियान की शपथ ली, बच्चों ने जागरूकता गीत प्रस्तुत किए। विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों को जागरूक करने के लिए तथा उन्हें यातायात नियमों की जानकारी बिजनौर थाना प्रभारी मनोज सिंह भदोरिया, प्रधान प्रतिनिधि पवन सिंह ने प्रदान की। मनोज सिंह भदोरिया ने बच्चों को बताया कि यातायात के नियमों तथा चिन्हों कि यदि सही जानकारी रखकर सड़क पर चला जाए तो सड़क पर होने वाली बहुत से दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है। सड़क पर पैदल चलने दो पहिए से चलने तथा चार पहिए के वाहनों से चलने के लिए लेन का निर्धारण किया गया है जिसकी जानकारी रखकर अपनी लाइन पर चलने का प्रयास करना चाहिए। बच्चों को अपने दाएं बाएं देखकर, धीरे से जेबरा क्रॉसिंग पर चलकर सड़क पार करनी चाहिए, भागकर सड़क पार करने से बचना चाहिए। हमेशा दो पहिया वाहन से चलते समय हेलमेट का प्रयोग जरूर करना चाहिए।

    शिक्षक प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित रीना त्रिपाठी ने बताया कि सड़क पर होने वाली 85% दुर्घटनाओं का कारण नशा होता है। यदि हम नशे को ना कह दे तो हमारी सड़के जो पान और गुटके की पीक से लाल हो चुकी है, साफ-सुथरी तथा दुर्घटनाओं से मुक्त पाई जाएंगी। अक्सर त्योहारों में लोग शराब पीकर गाड़ी चलाते हैं जिसके कारण हर त्यौहार में दुर्घटनाओं की एक लंबी सूची तैयार हो जाती है। यदि बच्चे यह शपथ लें कि वह जीवन में नशा कभी नहीं करेंगे तो कुछ वर्षों के बाद नशे के खरीदार ना होने के कारण सड़कों में नशा करके चलने वालों की संख्या स्वत: ही कम हो जाएगी और दुर्घटनाओं से बचा जा सकेगा। एक तरफ जहां नशा शारीरिक अंगों को खराब करता है वही मानसिक सुध बुध को बिगड़ने का भी काम करता है । ज्यादातर पुलिस के पास नशे के कारण होने वाले विवाद लड़ाई झगड़े कत्ल के केश ही आते है।

    रीना त्रिपाठी ने बताया की लखनऊ सहित प्रदेश के अन्य जिलों में बेसिक विद्यालयों में नशा मुक्त आंदोलन आभियान कौशल का के तहत बच्चों को जीवन में कभी नशा न करने की शपथ दिलाई जा रही है इस अभियान से सभी को जोड़कर हिंदुस्तान नशा मुक्त बनाने का प्रयास करना चाहिए।

    बच्चों ने बहुत ही रुचि से अपना आकर्षण पुलिस की वर्दी के प्रति बताया तथा यह स्वीकार किया कि वह भी पढ़ लिखकर पुलिस में शामिल होना चाहते हैं बेटियां भी अपना योगदान पुलिस सेवा में देने के लिए उत्साहित दिखी।विद्यालय स्टाफ के द्वारा इस अभियान से जुड़कर ,बच्चों को यह शिक्षा दी गई कि यदि वह नशे से दूर रहेंगे, मन लगाकर पढ़ाई करेंगे तथा यातायात नियमों का पालन करेंगे तो उनके आंतरिक व बाहरी ,दोनों तरह से सुरक्षा हो सकेगी, निश्चित रूप से देश के गरिमा पूर्ण नागरिक बनने में अपना योगदान दे पाएंगे।

    कार्यक्रम में विद्यालय परिवार से रश्मि खरे प्रधानाध्यापिका , कंचन लता सहायक अध्यापिका, अखिलेश कुमारी सहायक अध्यापिका, अशोक कुमार यादव सहायक अध्यापक , हेमलता प्रजापति चतुर्थ श्रेणी, रसोईया रानी शिक्षक प्रतिनिधि रीना त्रिपाठी, दैनिक जागरण टीम से आशीष सिंह, मनोज सिंह भदोरिया और उनकी टीम प्रधान प्रतिनिधि पवन कुमार सिंह , तथा बच्चों के अभिभावकों ने प्रतिभाग किया।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.