Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। कानपुर मंडल के आयुक्त की अध्यक्षता में कानपुर स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक आयोजित की गई।

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। स्मार्ट सिटी की परियोजनाओं को समय पर और गुणात्मक रूप से पूरा करने के उद्देश्य से आज कानपुर मंडल के आयुक्त की अध्यक्षता में कानपुर स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक आयोजित की गई। डीएम कानपुर नगर,  डीपी सिंह (यूपी के स्मार्ट सिटी मिशन के निदेशक),  जग जीवन राम (सीपीडब्लूडी ),  एके गुप्ता,  संजय अग्रवाल (मुख्य अभियंता केस्को), शिव शरणप्पा (नगर आयुक्त), तेज स्वरूप सिंह (डीसीपी ट्रैफिक), शत्रुघ्न वैश्य (सचिव केडीए),  सुधीर कश्यप,  वैशाली बियानी,  नीरज श्रीवास्तव ने महत्वपूर्ण चर्चाएँ की और कई निर्णय लिये गये  और साथ ही दिए गए निर्देशों को बिंदु वार सही तरीके से पूरा करने को बोला गया है , कलेक्ट्रेट के पास वीआईपी रोड पर ट्रैफिक जाम को कम करने के लिए मल्टी लेवल पार्किंग एक महत्वपूर्ण परियोजना है । 

    जल निगम की सी एंड डीएस एजेंसी द्वारा कलेक्ट्रेट में मल्टी लेवल पार्किंग अगले 18 महीनों में पूरी की जाएगी।इसका संचालन के लिए संचालन और रखरखाव के लिए टेंडर और इसका सफल संचालन स्मार्ट सिटी (स्मार्ट सिटी के कार्य काल तक) द्वारा किया जाएगा और फिर नगर निगम या केडीए द्वारा किया जाएगा जो बाद में तय किया जाएगा।

     नगर निगम में "जन सुविधा केंद्र (पब्लिक फैसिलिटेशन सेंटर)" को 31 मार्च (अगले 4 महीनों में) तक पूरा किया जाएगा और इसे चालू किया जाएगा ताकि सूचना प्रौद्योगिकी के सर्वोत्तम उपयोग के माध्यम से नगर निगम से संबंधित सार्वजनिक सेवाओं का लाभ आम जन मानस को शीघ्र मिल सके। एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली (आईटीएमएस) को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए डीसीपी ट्रैफिक और सीईओ स्मार्ट सिटी की साप्ताहिक बैठक आयोजित की जाएगी।

    प्रत्येक ट्रैफिक सिग्नल पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम (लाउड स्पीकर) लगाने का भी निर्णय लिया गया, जो लोगों को ट्रैफिक नियमों के बारे में घोषणा और जागरूक करेगा और उनका पालन करने के लिए प्रेरित करने और सजग करने में मदद करेगा। ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट), यातायात प्रबंधन और स्मार्ट सिटी संपत्ति प्रबंधन में सर्वोत्तम संभव “प्रबंधन प्रयासों” को सुनिश्चित करने के लिए, अधिकारियों और बोर्ड के कुछ सदस्यों की एक टीम दिसंबर में इंदौर और सूरत जिले के स्मार्ट शहरों का अध्ययन करने, सीखने और उनको कानपुर में लागू करने की उद्देश से “स्टडी विजिट” करेगी। 

     विशेषज्ञ शहरी विकास सलाहकार के मध्यम से 31 मार्च 2023 तक विज़न कानपुर@ 2047 के “ड्राफ्ट प्लान” तैयार करने के लिए भी विस्तृत चर्चा की गई और निर्णय लिया गया।

    यह स्मार्ट सिटी और केडीए द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा। इसका अनुश्रवण साप्ताहिक रूप से मंडलायुक्त और ज़िलाधिकारी द्वारा किया जाएगा। ऐतिहासिक गांधी भवन पर पर्यटन दृष्टि कोण से महत्वपूर्ण “प्रोजेक्शन मैपिंग” प्रोजेक्ट को सेल्फ सस्टेनेबल मॉडल बनाने और इसके बेहतर संचालन और रखरखाव सुनिश्चित करने के लिए एक्सपर्ट एजेंसी की माध्यम से संचालन और प्रबंधन (ओ एंड एम) कराने के लिए अग्रिम कार्यवाही करने के लिए निर्णय लिया गया और सीईओ स्मार्ट सिटी को अधिकृत किया गया। यह जिला प्रशासन, कानपुर स्मार्ट सिटी और केडीए के संयुक्त प्रयासों से किया जाएगा।

    चर्चा के एक अतिरिक्त बिंदु के रूप में, यह प्रस्तावित और सुझाव दिया गया था कि अगले 5 से 6 महीनों में केडीए के माध्यम से गांधी भवन में संचालित "सार्वजनिक पुस्तकालय" का नवीनीकरण और आधुनिकीकरण केडीए द्वारा किया जाए। यह उन हजारों पुस्तक प्रेमियों और युवाओं की मदद करेगा जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। इस महत्वपूर्ण कार्य को केडीए का अवस्थापना या अन्य अनुमन्य मद से कराने हेतु मंडलायुक्त द्वारा वीसी केडीए को बताया गया।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.