Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जलालपुर\अंबेडकरनगर। जलालपुर में आक्रोश की चिंगारी पर भारी पड़ी पुलिस की लाठी।

    • तीन नई गिरफ्तारी चार के रिमांड की तैयारी
    • दूसरे दिन भी गूंजती रही बूटों की खटखट दहशत में रहे ग्रामीण

    जलालपुर\अंबेडकरनगर। जलालपुर कस्बे से अकबरपुर को जाने वाले मार्ग के किनारे स्थित वाजिदपुर मोहल्ले में बाबा साहब के प्रतिमा स्थल को लेकर वर्षों से सुलग रही आक्रोश की चिंगारी रविवार को शोला बन गई। हालांकि आक्रोश की इस चिंगारी पर पुलिस की लाठी भारी पड़ी। दूसरे दिन बूटों की खटखट के बीच वाजिदपुर मोहल्ले में दहशत का माहौल कायम रहा। उक्त मामले में रविवार को गिरफ्तार कर जेल भेजे गए चार लोगों की पुलिस ने रिमांड की तैयारी कर ली है। जबकि सोमवार को  तीन नई गिरफ्तारी भी हुई है।

    लाठीचार्ज और पथराव के बाद का दृश्य

    बताया गया कि शनिवार को बाबा की टीन की तसवीर(प्रतिमा) पर कुछ अराजक तत्वों ने कालिख पोत दिया था। जिसे लेकर आक्रोशित लोगों को शांत कराते हुए जलालपुर पुलिस ने दो नामजद के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया था और अगले दिन प्रतिमा स्थल की पैमाइश करा कर बाउंड्री वॉल और गेट लगवाने का आश्वासन दिया था। बताते हैं कि अगले दिन रविवार को लोगों का आक्रोश और भड़क गया। जिसके बाद स्थानीय नागरिकों ने एकत्रित होकर जाम लगा दिया। प्रशासन का कहना है कि नगर पालिका, राजस्व और प्रशासन की टीम सीमांकन में लगी थी और नागरिक उसका विरोध कर रहे थे। दूसरी तरफ स्थानीय नागरिकों का कहना है कि प्रशासन दबंगों के प्रभाव में काम कर रहा था। बस इसी बात को लेकर आक्रोश भड़क गया और नागरिकों ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। यह प्रदर्शन प्रतिमा स्थल पर लेकर कोतवाली गेट तक पहुंचा था। इस बीच महिलाओं को समझाने पहुंची एक महिला सिपाही से भी हाथापाई हो गई। जिसके बाद आक्रोशित पुलिस ने जमकर लाठियां भाजी। जिसमें कई महिलाएं जख्मी हुई हैं। दूसरी तरफ पुलिस ने रविवार को चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। सोमवार को दूसरे दिन उन्हीं चारों के रिमांड की तैयारी कर तीन नए लोगों को गिरफ्तार कर उन्हें जेल भेजा गया है। दूसरी तरफ रविवार की इस उपद्रव वाली घटना के बाद से ही जलालपुर कस्बे में दहशत का माहौल बना हुआ है। प्रशासन ने वाजिदपुर को छावनी में तब्दील कर दिया है। बूटों की खटखट गूंज रही है और नागरिक दहशत में अपने घरों में दुबके हैं।

    बाबा साहब की तस्वीर पर लगा कालिख

    उधर भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने उक्त प्रकरण को लेकर सोमवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक से मिलकर चार सूत्रीय ज्ञापन दिया। जिसमें स्थानीय प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए न्याय मांगी गई है। यही नहीं जलालपुर में पीड़ितों का हाल जानने आ रहे कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल को कस्बे से 6 किलोमीटर दूर पट्टी चौराहे पर ही प्रशासन ने रोक लिया। जिस पर कांग्रेसियों ने भी प्रशासन पर मनमानी का आरोप लगाया है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.