Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बैतूल। खबर का असर, बिना रजिस्ट्रेशन एम्बुलेंस संचालकों की जांच शुरू, पुलिस कप्तान के निर्देश पर की जा रही कार्यवाही,हो रही गाड़ी के कागज जांच।

    शशांक सोनकपुरिया

    बैतूल। मध्यप्रदेश के बैतूल से कुछ दिन पूर्व बिना रजिस्ट्रेशन की खबर INA News द्वारा प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी जिसमें प्रशासन द्वारा मामले में  कार्यवाही नही किया जाने की बात सामने लाई गई थी खबर के प्रकाशन के बाद प्रशासन एक्शन मोड में आया और पुलिस कप्तान ने आदेश जारी कर यातायात पुलिस को निर्देशित किया जिसके बाद आज से प्राइवेट एम्बुलेंस संचालकों के रजिस्ट्रेशन की जांच शुर हुई।

    क्या है पूरा मामला 

    जिस प्रकार जिले में संचालित व बैतूल परिवहन विभाग में पंजीयन के बगैर धड़ल्ले से दौड़ रहे हैं। जिला मुख्यालय पर नियमों को ठेंगा दिखाकर चल रही। इन वाहनों पर कार्रवाई में परिवहन विभाग लापरवाह बना हुआ है।एक ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश के बैतूल में एक प्राइवेट एम्बुलेंस चालक द्वारा कही से प्राइवेट गाड़ी ला ली गई जिसका नम्बर GJ 18BT8393 है जिसका न तो बैतूल में कोई रजिस्ट्रेशन हुआ है न ही गाड़ी का परमिट बनवाया गया है अब सवाल यह है कि जिस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन किसी और जगह का है पेपर भी कहीं और के है तो फिर वो अपनी गाड़ी में स्ट्रेचर लगवाकर मरीजों को लाना ले जाना कर रहा है क्या ये सही है और उस गाड़ी से कभी कोई दुर्घटना हो जाये तो उसका जवाबदार कौन होगा? यह सबसे बड़ा प्रश्नचिन्ह है ? 

    एक तरफ तो नए आरटीओ साहब जोर शोर से अपनी तेजतर्रार कार्य प्रणाली से जाने जाते है वही इस तरह से गंभीर मरीजों की जान से खिलवाड़ किया जा रहा है। भविष्य में कहीं कोई गंभीर दुर्घटना इस एम्बुलेंस से होती है तो उसकी जिम्मेदारी किसकी होगी इस पर क्या कार्यवाही की जाएगी ये भी देखने वाली बात है वहीं आज गजेंद्र केन द्वारा एम्बुलेंस को आरटीओ थाने में खड़ी कराई गई है देखना यह है कि उस गाड़ी के संचालक पर क्या कार्रवाई होती है या उसे छोड़ दिया जाता है। 

    • काली फिल्म लगा कर चल रही है एंबुलेंस

    एंबुलेंस मैं काली फिल्म लगाकर शहर में चलाई जा रही है जिसके चलते गजेंद्र केन द्वारा गाड़ी के पेपर चेक कर चालानी कार्रवाई की गई। 

    • बस में भरा जाता है ओवरलोडिंग माल

    शहर में यात्री बसों द्वारा ओवरलोडिंग माल भर कार लाया जाता है बस मालिक द्वारा ओवरलोड माल भरकर बसों को शहर में दौड़ाया जाता है जहां आए दिन एक्सीडेंट एवं हादसे की संभावना बनी रहती है बस ड्राइवर द्वारा गाड़ी को स्टॉप पर न रोककर जहां मर्जी हो वहां सवारी के लिए खड़ी करते हैं जिससे आने जाने वाले राहगीरों को मुसीबतों का सामना करना पड़ता है अपनी मन मुताबिक बस चलाया जाता है आज वही देखते हुए गजेंद्र केन द्वारा बसों पर चालानी कार्यवाही कर समझाइश दी गई है

    • एंबुलेंस और बसों को समझाइश देकर चालानी कार्यवाही की

    गजेंद्र केंन द्वारा आज मुल्लाजी पेट्रोल पंप से लेकर हॉस्पिटल नेहरू पार्क चौक तक ओवरलोडिंग गाड़ियां एंबुलेंस सभी के दस्तावेज चेक कर जहां पर त्रुटियां पाई गई उन एंबुलेंस बस मालिकों पर चालानी कार्यवाही की गई और उन्हें समझाइश देकर गाड़ी को छोड़ा गया।बैतूल। जिले में संचालित व बैतूल परिवहन विभाग में पंजीयन के बगैर धड़ल्ले से दौड़ रहे हैं। जिला मुख्यालय पर नियमों को ठेंगा दिखाकर चल रही। इन वाहनों पर कार्रवाई में परिवहन विभाग लापरवाह बना हुआ है।एक ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश के बैतूल में एक प्राइवेट एम्बुलेंस चालक द्वारा कही से प्राइवेट गाड़ी ला ली गई जिसका नम्बर GJ 18BT8393 है जिसका न तो बैतूल में कोई रजिस्ट्रेशन हुआ है न ही गाड़ी का परमिट बनवाया गया है अब सवाल यह है कि जिस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन किसी और जगह का है पेपर भी कहीं और के है तो फिर वो अपनी गाड़ी में स्ट्रेचर लगवाकर मरीजों को लाना ले जाना कर रहा है क्या ये सही है और उस गाड़ी से कभी कोई दुर्घटना हो जाये तो उसका जवाबदार कौन होगा? यह सबसे बड़ा प्रश्नचिन्ह है ? एक तरफ तो नए आरटीओ साहब जोर शोर से अपनी तेजतर्रार कार्य प्रणाली से जाने जाते है वही इस तरह से गंभीर मरीजों की जान से खिलवाड़ किया जा रहा है। भविष्य में कहीं कोई गंभीर दुर्घटना इस एम्बुलेंस से होती है तो उसकी जिम्मेदारी किसकी होगी इस पर क्या कार्यवाही की जाएगी ये भी देखने वाली बात है वहीं आज गजेंद्र केन द्वारा एम्बुलेंस को आरटीओ थाने में खड़ी कराई गई है देखना यह है कि उस गाड़ी के संचालक पर क्या कार्रवाई होती है या उसे छोड़ दिया जाता है। 

    गजेंद्र केन ( यातायात प्रभारी)


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.