Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। व्यापारियों की मांग पर कमिश्नर ने एसआईटी की घोषणा की।

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। न्याय संघर्ष समिति के तत्वाधान में बैंक ऑफ बड़ौदा(किदवई नगर ब्रांच) व सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया(कराचीखाना ब्रांच )के पीड़ित पुलिस कमिश्नर से मिले और वादे अनुसार न्याय की मांग की।पीड़ित महिलाएं भावुक थीं।कमिश्नर ने त्वरित कार्यवाही की। एसआईटी बनाने के वादे के दो महीने बीतने पर भी एसआईटी का गठन न होने और न्याय के लिए कोई कार्यवाही न होने से परेशान पीड़ित परिवार न्याय संघर्ष समिति के संयोजक व प्रांतीय व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता व न्याय संघर्ष समिति के संरक्षक पवन गुप्ता के नेतृत्व में आज कानपुर के कमिश्नर बीपी जोगदंड से मिले और न्याय के लिए मांग पत्र सौंपा।पुलिस कमिश्नर बीपी जोगदंड ने तत्काल अपने स्टेनो को बुलाकर आज ही अपने ही कार्यालय से एसआईटी की घोषणा की बात कही जिसके बाद सभी पीड़ित संतुष्ट हुए।

    अभिमन्यु गुप्ता व पवन गुप्ता के साथ बैंक ऑफ बड़ौदा व सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया लॉकर चोरी पीड़ित पुलिस कमिश्नर कानपुर से उनके निवास पर मिले और उनसे मामले की जांच करके न्याय दिलवाने की मांग करी।16 अगस्त को सभी लॉकर चोरी पीड़ित प्रांतीय व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता व न्याय संघर्ष समिति के संयोजक पवन गुप्ता के साथ पुलिस कमिश्नर बीपी जोगदंड से मिले थे और सभी मामलों की सही व उच्च स्तरीय जांच के लिए एसआईटी गठित करने की मांग की थी।पुलिस कमिश्नर ने तभी एसआईटी की बात का समर्थन करते हुए घोषणा कर दी थी की बैंक लॉकर चोरी पीडितों के मामलों की जांच के लिए एसआईटी गठित की जाएगी।पर अभी तक एसआईटी औपचारिक रूप से गठित नहीं हुई।आज सभी पीड़ितों ने कमिश्नर से मुलाकात कर अपनी पीड़ा बताई जिसके बाद कमिश्नर ने त्वरित कार्यवाही की।अभिमन्यु गुप्ता ने बताया की सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया लॉकर पीड़ित रमेश खन्ना ने कहा की पहले तो बैंक ने पत्रों का जवाब नहीं दिया और मिलने पर बोला की लॉकर है ही नहीं और जब पुलिस को लिखित में शिकायत दी तो बैंक ने मीडिया को बताया की लॉकर मिल तो गया है पर एक नाम आधा लिखा है।पीड़ित रमेश खन्ना ने कमिश्नर को कहा की बैंक वाले उल्टा धमकी दे रहे हैं की पुलिस के पास जाओगे तो बदनाम करने का मुकदमा कर देंगे जबकि बैंक से पूछने पर आज तक बैंक ने जवाब नहीं दिया।वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा पीड़ित अजय गुप्ता व उनकी पत्नी ने कहा की बैंक के लॉकर रूम में कुछ लोग जाते दिखे पर बैंक अभी तक प्रोटोकॉल के दस्तावेज नहीं दे पाया है जिससे की पता चल रहा है की बैंक कुछ छुपा रहा है।अजय गुप्ता ने कहा की यह वही शाखा है जहां से शत्रु संपत्ति पर लोन का मामला चल रहा है।पीड़ित महिलाओं ने कहा की त्यौहार नहीं मनाया और पुलिस द्वारा कार्यवाही न होने से अपमानित महसूस कर रहे हैं।प्रांतीय व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता ने ज्ञापन देते हुए सभी मामलों की एसआईटी जांच शुरू करके सच्चाई सामने लाने की मांग करी।अभिमन्यु गुप्ता ने कहा की दोनों व्यापारी हैं और उनको पूरी सच्चाई जानने का अधिकार है।बैंकें सच्चाई बताती नहीं और उल्टा पीड़ितों को ही धमकी देती हैं।अभिमन्यु गुप्ता ने कहा की उनको पुलिस से ही न्याय की उम्मीद है।पवन गुप्ता ने कहा की मामला जितना लंबित होगा उतना ही सबूत मिटने का संदेह बढ़ेगा।पीड़ितों को न्याय जरूर मिलना चाहिए और इसके लिए अंत तक संघर्ष किया जाएगा।कमिश्नर बीपी जोगदंड ने त्वरित निर्णय लेते हुए तत्काल स्टेनो को एसआईटी गठित कर आदेश जारी करने का निर्देश दिया।पुलिस कमिश्नर ने आश्वस्त किया की तह तक जाकर न्याय दिलवाया जाएगा।अभिमन्यु गुप्ता,पवन गुप्ता,जय गुप्ता,आजाद खान व पीड़ित रमेश खन्ना,अजय गुप्ता व परिजन मौजूद रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.