Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    गया\बिहार। छठ महापर्व को देखते हुए जिला पदाधिकारी एवं बरिए पुलिस पदाधिकारी ने की संयुक्त बैठक कई दंडाधिकारी किए गए नियुक्त।

    प्रमोद कुमार यादव गया बिहार

    गया\बिहार। कार्तिक छठ महापर्व 2022 के अवसर पर सुरक्षा, विधि व्यवस्था एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने हेतु जिला पदाधिकारी गया डॉक्टर त्यागराजन एसएम एवं वरीय पुलिस अधीक्षक गया हरप्रीत कौर की संयुक्त अध्यक्षता में पुलिस लाइन परिसर में प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी हो तथा पुलिस पदाधिकारियों के साथ ब्रीफिंग की गई। ब्रीफिंग को संबोधित करते हुए जिला पदाधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिया कि पिछले 2 वर्षों के बाद भव्य रुप से छठ पर्व मनाया जा रहा है, इसलिए सभी छठ घाटों पर भीड़ होने की पूरी संभावना है। 

    उन्होंने सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी  तथा पुलिस पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि अपने-अपने प्रतिनियुक्ति स्थल पर उपस्थित रहते हुए भीड़ नियंत्रण हेतु आवश्यक कार्य करते रहें। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि कृपया निम्नलिखित बिंदुओ को अवश्य क्रॉस-चेक करें कि :- 

    1. खतरनाक घाटों का स्पष्ट रूप से सीमांकन और प्रचार-प्रसार करवाये।
    2. घाटों पर जहां आवश्यक हो वहां बैरिकेडिंग की गई है। कुछ घाटों पर सीढि़यों को काटना पड़ता है।
    3. सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है।
    4. रेलवे पटरियों पर भी प्रतिनियुक्ति की गई है, जहां घाट लगे हैं या जहां लोगों को घाटों तक पहुंचने के लिए पटरियों को पार करना पड़ता है।
    5. पीए सिस्टम उन जगहों पर लगाए गए हैं जहां भारी भीड़ होने की संभावना है।
    6. उचित संचार योजना मौजूद है।
    7. जहां आवश्यक हो वहां गोताखोरों को तैनात किया गया है।
    8. कोई लटके हुए बिजली के तार नहीं हैं, जो बिजली या आग का कारण बन सकते हैं।
    9. घाटों की नियमित सफाई की समुचित व्यवस्था है।
    10. यातायात की आवाजाही और पार्किंग की उचित योजना बनाई गई है।

    उन्होंने सभी पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि अनिवार्य रूप से इन बिंदुओं पर अवश्य जांच करें। जिला पदाधिकारी ने कहा कि दंडीबाग स्थित झारखंडी घाट में स्वच्छ जल की उपलब्धता को नहीं देखते हुए झारखंडी घाट से लगभग 100 मीटर दूर आयुर्वेदिक कॉलेज के पीछे नए घाट का निर्माण किया गया है। जिला पदाधिकारी ने गया जिला वासियों से अपील किया है कि जो छठव्रती झारखंडी घाट में जाने हेतु इच्छुक हैं, वह वहां ना जाते हुए वहां से 100 मीटर दूर आयुर्वेदिक कॉलेज में बनाए गए नए छठ घाट में जाकर अर्ग दें सकते हैं।

    जिला पदाधिकारी ने कहा कि सभी छठ घाटों पर पर्याप्त बल, दंडाधिकारी, एंबुलेंस, चिकित्सीय दल तथा फायर ब्रिगेड की प्रतिनियुक्ति की गई है। सभी महत्वपूर्ण छठ घाटों के निकट क्विक रिस्पांस टीम बनाई गई है। शहरी क्षेत्र के 31 प्रमुख छठ घाटों को 4 ज़ोन में विभक्त करते हुए जिले के वरीय पदाधिकारियों को ज़ोन का वरीय पदाधिकारी नामित किया गया है।

    ज़ोन 1 के वरीय पदाधिकारी अपर समाहर्ता श्री मनोज कुमार इनके अंतर्गत कुल 13 छठ घाट, ज़ोन 2 के वरीय पदाधिकारी जिला भू अर्जन पदाधिकारी इनके अंतर्गत कुल 07 छठ घाट, ज़ोन 3 एवं जोन 4 के वरीय पदाधिकारी उप विकास आयुक्त इनके अंतर्गत जोन 3 में कुल 06 छठ घाट तथा ज़ोन 4 में 05 छठ घाट को निगरानी हेतु आवंटित किया गया है। बैठक में बताया गया कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से सभी घाटों पर वॉच टावर एवं घाट के अंदर गहराई में ना जाए इसके लिए अस्थाई बैरीकटिंग कराई गई है। अति महत्वपूर्ण घाटों पर चेंजिंग रूम सीसीटीवी कैमरा कंट्रोल रूम पब्लिक टॉयलेट इत्यादि की भी व्यवस्था की गई है। छठ पर्व को देखते हुए जिला नियंत्रण कक्ष 29 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक 24 घंटे कार्यरत है जिसका दूरभाष संख्या 2222 253 है तीन पालियों में पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है।

    ब्रीफिंग को संबोधित करते हुए वरीय पुलिस अधीक्षक हरप्रीत कौर ने कहा कि किसी भी घाट पर कोई अफवाह ना फैलाएं इस पर पूरी नजर रखें भीड़ नियंत्रण तथा ट्रैफिक व्यवस्था सुचारू रहे इस पर सभी पदाधिकारी पूरी तरह फोकस रखें बड़े एवं संवेदनशील घाटों पर पुलिस पदाधिकारी को पोर्टेबल माइक तथा वायरलेस चेक मशीन दिया जा रहा है ताकि अपने स्तर से लगातार माइकिंग करते रहें। उन्होंने सभी थाना प्रभारी तथा वरीय पुलिस पदाधिकारियों निर्देश दिया है कि अपने-अपने थाना क्षेत्र अंतर्गत घाटों में पैदल गस्ती लगातार करावे, विशेषकर रात्रि अवधि में। ब्रीफिंग के उपरांत जिला पदाधिकारी द्वारा सूर्यकुंड तथा देवघाट का निरीक्षण किया गया।

    सूर्यकुंड निरीक्षण के दौरान उन्होंने बैग कटिंग को और मजबूत करवाने का निर्देश दिया उन्होंने कहा कि गोताखोर तथा एसटीआरएफ की टीम लगातार मूवमेंट में रहे यह सुनिश्चित करावे। उन्होंने कहां की भीड़ नियंत्रण हेतु प्रभावी कार्यवाही करें सेपरेट एंट्री एवं सेपरेट एग्जिट प्वाइंट रखें। रोशनी की मुकम्मल व्यवस्था रखें। आने एवं जाने वाले रास्ते को साफ सुथरा के साथ-साथ समतल रखें। देवघाट के निरीक्षण के दौरान उन्होंने नदी में किए गए बैरिकेडिंग को और आगे तक अच्छे गुणवत्ता के साथ बैरीकटिंग करवाने का निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फल्गु नदी के दोनों ओर पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था रखें। उन्होंने कहा कि गयाजी डैम निर्माण होने के कारण इस वर्ष छठ पर्व एक चैलेंज के रूप में रहेगा। पहले जब नदी में पानी नहीं रहती थी तो छठ व्रती नदी में उतर कर के अर्घ देते थे, परंतु इस वर्ष घाट पर ही लोग अर्ग देंगे। भीड़ नियंत्रण की पूरी व्यवस्था दुरुस्त रखनी होगी। इसके साथ ही नाव सहित एसडीआरएफ की टीम तथा पर्याप्त संख्या में गोताखोर मौजूद रहे, इसे हर हाल में सुनिश्चित कराएं।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.