Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। इंजीनिरिंग के छात्र अपहरण की घटना का किया गया रिक्रेएशन।

    ..... स्टेट मेडिगो लीगल सेल लखनऊ के संयुक्त निदेशक डॉ. कीर्ति वर्धन सिंह ने घटनास्थल किया निरीक्षण

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। बजरिया थाना क्षेत्र से 23 अगस्त को हुए इंजीनियरिंग छात्र रितिक के अपहरण मामले का शनिवार को अपराध शाखा एवं स्टेट मेडिको लीगल सेल के संयुक्त निदेशक डॉ. कीर्ति वर्धन सिंह के नेतृत्व में घटनास्थल अटलघाट पर सीन रिक्रेएशन किया गया। इस दौरान वहां मौजूद छात्र के परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया कि यह जांच फाइल को बन्द करने के लिए किया जा रहा है। 

        

    कानपुर नगर के ब्रम्हनगर निवासी अमर सिंह का 22 वर्षीय बेटा रितिक सिंह एक्सिस कॉलेज से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था। छात्र 23 अगस्त को लापता हो गया था इस पर परिजनों ने बजरिया थाना में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। मामले को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस आयुक्त कानपुर ने पूरे प्रकरण की जांच के लिए क्राइम ब्रांच को निर्देश दिया। हालांकि छात्र के अपहरण मामले में पुलिस ने संदिग्ध आरोपित रजत, मनीष, बिखरी कश्यप, रमजान को गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है। जांच के दौरान लापता हुए छात्रा के कपड़े पुलिस ने अटल घाट से बरामद किया। पूंछताछ के दौरान आरोपितों ने पुलिस को बताया कि छात्र की गंगा में डूबने से मौत हो गई। वारदात के बाद फोरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल का निरीक्षण करके अपनी रिपोर्ट तैयार की थी। लेकिन छात्र का शव बरामद न हो पाने की वजह से परिवार के लोग लगातार स्थानीय पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवाल उठा रहें है। क्राइम बांच के विवेचक ने स्टेट मेडिगो लीगल सेल लखनऊ को इस मामले की जांच कराने के लिए पत्र लिखा। जिसके क्रम में शनिवार को स्टेट मेडिगो लीगल सेल के संयुक्त निदेशक डॉ. कीर्ति वर्धन सिंह की निगरानी में टीम अपहृत हुए छात्र मामले की जांच करने के लिए अटलघाट पर पहुंची। जहां घटना का रिक्रेएशन किया गया। जिसमें संयुक्त निदेशक डॉ. कीर्ति वर्धन सिंह ने गोताखोर बलराम के सहयोग से फिल्ड युनिट द्वारा तैयार रिपोर्ट के आधार पर गंगा में जल की गहराई नापी। इस दौरान उन्होंने विवेचक से कई सवाल भी पूंछे। 

    उन्होंने बताया कि गायब हुआ छात्र 12 से 17 फिट की गहराई में डूब सकता है और जल का बहाव है तो वह बहकर दूसरे स्थान पर जा सकता है। ऐसी सम्भावना बनी रहती है। आज हुए रिक्रेएशन की रिपोर्ट देने के बाद, जांच कर रही टीम को घटनास्थल से आगे बढ़कर जहां तक नदी आगे जाती उन स्थानों पर भी खोजने का प्रयास किया जा सकता है। इंजीनिरिंग छात्र रितिक के पिता अमर सिंह एवं उनके परिवार वालों कहना है कि उसका अपहरण किया गया है। जहां वह सेल्फी लिया था वहां से घटनास्थल पर पहुंचने में समय लगेगा और इतनी जल्दी वह गंगा में कपड़े उतारकर नहीं कूद सकता है। पुलिस यह जो कर रही है, वह मात्र अपहरण मामले की फाइल को बन्द करने के लिए कर रही है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.