Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मेरठ। शहरवासियों को दीपावली का तोहफा, रेपिड रेल कॉरिडोर की पहली सुरंग तैयार।

    ......... एनसीआरटीसी व मंडलायुक्त ने बटन दबा कर किया टनल का ब्रेकथ्रू, कर्मचारियों ने भारत माता की जंय व तिरंगा फहराकर मनाया जश्न। 

    मेरठ। शनिवार का दिन धनतेरस पर मेरठ वासियों के लिए खास रहा दिल्ली.गाजियाबाद.मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर की पहली सुरंग का मेरठ में ब्रेकथ्रू उद्घाटन किया गया। धनतेरस के शुभ अवसर पर एनसीआरटीसी के एमडी  विनय कुमार सिंह ने रिमोट का बटन दबाकर इस 750 मीटरी लंबी सुरंग का ब्रेकथू्र किया। रैपिड रेल के संचालन के लिए 750 मीटर लंबी सुरंग की खुदाई पूरी हो चुकी है।एमडी ने दिए गये टारगेट से पहले गाजियाबाद -मेरठ तक रैपिड चलने की उम्मीद जताई है।  दो टनल का पर बेगमपुंल से गांधी बाग तक काम अब आरंभ होगा।सुदर्शन लाचिंग 8.3टनल बोरिंग मशीन को गांधी पार्क में निर्मित लाचिंग शाफ्ट पर लांच किया गया था।  

    • 4 महीने में हुई 750 मीटर सुरंग खुदाई

    इस सुरंग की खुदाई में पूरे 4 महीने का समय लगा है। सुदर्शन 8.3 टनल बोरिंग मशीन को गांधी पार्क में निर्मित लॉन्चिंग शाफ्ट से लॉन्च किया गया था और अब इसे बेगमपुल आरआरटीएस स्टेशन से रीट्रीव किया जाएगा। रैपिड कॉरिडोर के लिए बन रही 3 सुरंगों में यह पहली सुरंग का फर्स्ट ड्राइव है। दो अन्य सुरंगें 8.1 और 8.2 भैसाली से फुटबॉल चौक तक 1.8 किमी लंबी समानांतर तैयार हो रही हैं। यही सुदर्शन ८.३ टीबीएम समानांतर टनल का निर्माण भी करेगी।

    • 6.5 मीटर चौडी सुरंग से गुजरेगी रैपिड

    इस 750 मीटर लंबी सुरंग में 3500 से अधिक प्री.कास्ट सेगमेंट का उपयोग किया गया है। टनलिंग प्रक्रिया में इन सेगमेंट को बोर की गई टनल में इंसर्ट किया जाता है और सात खंडों को जोड़कर एक रिंग का निर्माण किया जाता है। प्रत्येक सेगमेंट 1.5 मीटर लंबा और 275 मिमी.मोटा होता है। इन सेगमेंट और रिंग को बोल्ट की मदद से जोड़ा जाता है। सुरंग का व्यास 6.5 मीटर है। मेट्रो सिस्टम की तुलना में देश में पहली बार इतनी बड़ी आकार की टनल का निर्माण किया जा रहा है।

    • एक कॉरिडोर में दौड़ेगी मेट्रो, रैपिड रेल

    मेरठ सेंट्रल, भैसाली और बेगमपुल मेरठ में अंडरग्राउंड स्टेशन हैं। मेरठ सेंट्रल और भैसाली मेरठ मेट्रो स्टेशन हैं जबकि बेगमपुल स्टेशन आरआरटीएस और मेट्रो दोनों मिलेंगी। एनसीआरटीसी मेरठ में आरआरटीएस नेटवर्क मेरठ मेट्रो प्रदान करने जा रहा है, जिसमें 21 किमी की दूरी में 13 स्टेशन होंगे।

    एनसीआरटीसी के प्रबंध निदेशक  विनय कुमार सिंह ने बताया कि सुदर्शन 8.3का पहला बे्रकथू्र आरसीआरटीसी परियोजनना में एक महत्वपूर्ण  मील का पत्थर है। मेरठ जैसे एतिहासिक और भीडभाड वाले इलाकें में इस तरह की मेगा इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजना का निर्माण चुनौतीपूर्ण है।उन्होने कहा कि यूपी सरकार के अधिकारियों के समर्थन और टीम एनसीआरटी,जनरल कंसल्टेंट्स, डिजाइनरों और हमारे कॉन्टेक्टर की लगन और अथक परिश्रम का नतीजा है कि मेरठ के लोगों को बिना ज्यादा असुविधा हुए विशाल परियोजना को तेज गति से लागू किया जा रहा है। इस मौके पर मंडलायुक्त सेल्वा कुमारी जे, डीएम दीपक मीणा, एसएसपी रोहित साजवाण, एसपी ट्रैफिक जितेन्द्र श्रीवास्तव , एनसीआरटीसी के अधिकारी व कर्मचारी गण आदि मौजूद रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.