Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। झकरकट्टी भूमिगत मेट्रो स्टेशन की छत बनना शुरू; आज से आरंभ हुई रूफ़ स्लैब की ढलाई।

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। मेट्रो रेल परियोजना के कॉरिडोर-I (आईआईटी-नौबस्ता) के अंतर्गत निर्माणाधीन कानपुर सेंट्रल-ट्रांसपोर्ट नगर भूमिगत सेक्शन के झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन की छल की ढलाई का काम आज से शुरू हो गया है। आज दोपहर लगभग 3.30 बजे विधिवत पूजा के बाद झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन पर रूफ़ स्लैब कास्टिंग का शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लि. (यूपीएमआरसीएल) के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

    दिनांक- 09.06.2022 से उक्त भूमिगत सेक्शन के निर्माण कार्यों का शुभारंभ हुआ था। झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन पर डायफ़्राम  वॉल (डी-वॉल) के निर्माण के साथ इस सेक्शन पर निर्माण कार्य शुरू हुए थे और इतने कम समय में स्टेशन की रूफ़ स्लैब की कास्टिंग का काम शुरू करना, यूपीएमआरसी के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। लगभग 3 किमी. लंबे उक्त सेक्शन में तीन भूमिगत स्टेशनों; कानपुर सेंट्रल, झकरकट्टी और ट्रांसपोर्ट नगर का निर्माण होना है। उक्त सेक्शन के स्टेशनों का विवरण इस प्रकार है:

    • कानपुर सेंट्रल:  225.00 मीटर x 24.00 मीटर
    •  झकरकट्टी: 158.00 मीटर x 23.00 मीटर
    • ट्रांसपोर्ट नगर: 215.00 मीटर x 21.50 मीटर

    इस अवसर पर सिविल इंजीनियरों की टीम को बधाई देते हुए, यूपीएमआरसी के प्रबंध निदेशक सुशील कुमार ने कहा, “हमने आईआईटी से मोतीझील के बीच 9 किमी. लंबे प्राथमिक सेक्शन का निर्माण कार्य निर्धारित समय-सीमा से पूर्व पूरा कर, एक कीर्तिमान स्थापित किया था और अब हमारा लक्ष्य है कि आईआईटी से नौबस्ता तक लगभग 23 किमी. लंबे पूरे कॉरिडोर को भी समय से पूरा किया जाए। कानपुर मेट्रो परियोजना के पहले कॉरिडोर के अंतर्गत कुल 7 किमी. लंबे भूमिगत सेक्शन का निर्माण दो भागों में किया जा रहा है। चुन्नीगंज से नयागंज के बीच बन रहे 4 किमी. लंबे भूमिगत सेक्शन का काम अग्रिम चरण में है और इस सेक्शन में स्टेशनों और टनल दोनों ही का निर्माण तीव्र गति से जारी है। वहीं, कानपुर सेंट्रल से ट्रांसपोर्ट नगर के बीच बन रहे दूसरे भूमिगत सेक्शन के झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन पर आज से रूफ़ स्लैब कास्टिंग शुरू हो रही है, जो एक बड़ी उपलब्धि है। मुझे पूरा विश्वास है कि हम परियोजना के दोनों कॉरिडोर्स को निर्धारित समय-सीमा के अंतर्गत पूर्ण कर लेंगे।”

    • टॉप-डाउन प्रणाली से तैयार होंगे कानपुर मेट्रो के भूमिगत स्टेशन

    कानपुर मेट्रो के भूमिगत मेट्रो स्टेशन टॉप-डाउन प्रणाली से तैयार होंगे यानी निर्माण कार्य ऊपर से नीचे की ओर होंगे। रूफ़ स्लैब तैयार होने के बाद, कॉनकोर्स लेवल और फिर प्लैटफ़ॉर्म लेवल का निर्माण होगा। निर्माणाधीन स्टेशन पर चल रहे काम से ट्रैफ़िक कम से कम प्रभावित हो, इसलिए यह प्रणाली अपनाई जा रही है क्योंकि रोड लेवल से शुरू करते हुए पहले तल का निर्माण होने के बाद, सड़क पर लगी बैरिकेडिंग को कम कर दिया जाएगा। सड़क के नीचे स्टेशन का निर्माण कार्य चलता रहेगा और सड़क पर वाहनों की आवाजाही भी सुचारू रूप से जारी रहेगी।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.