Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। प्लेटफॉर्म लेवल तक पहुंचा नयागंज मेट्रो स्टेशन का निर्माण कार्य, टॉप-डाउन प्रणाली से बन रहे हैं भूमिगत मेट्रो स्टेशन।

    ......आज से शुरू हुई प्लेटफॉर्म लेवल पर कास्टिंग। 

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। मेट्रो रेल परियोजना के चुन्नीगंज-नयागंज भूमिगत सेक्शन के अंतर्गत नयागंज मेट्रो स्टेशन के प्लेटफॉर्म लेवल के कास्टिंग का कार्य आज से आरंभ हो गया। टॉप-डाउन प्रणाली से निर्मित हो रहे इस भूमिगत स्टेशन का यह आखिरी तल होगा। बड़ा चौराहा से नयागंज के तरफ आगे बढ़ रहे ‘नाना‘ और ‘तात्या‘ टीबीएम को बाहर निकालने के लिए यहीं रिट्रीवल शॉफ्ट बनाया जाएगा। बाद में यह शॉफ्ट नयागंज मेट्रो स्टेशन का हिस्सा बन जाएगा। 

    लगभग 225 मीटर लंबे और 22.3 मीटर चौड़े नयागंज मेट्रो स्टेशन के रूफ और कॉनकोर्स स्लैब के कास्टिंग का कार्य पहले ही आरंभ किया जा चुका है। रूफ स्लैब (स्टेशन की छत) के कास्टिंग का कार्य लगभग 60 प्रतिशत और कॉनकोर्स स्लैब का लगभग 40 प्रतिशत पूरा किया जा चुका है। प्लेटफॉर्म लेवल पर कास्टिंग के लिए स्कोप ऑफ वर्क के अंतर्गत 15 प्रतिशत हिस्से पर खुदाई की जा चुकी है।

    • नाना और तात्या टीबीएम के लिए बना रिट्रीवल शॉफ्ट बाद में बन जाएगा स्टेशन का हिस्सा 

    बड़ा चौराहा से नयागंज की ओर भूमिगत टनल बनाते हुए ‘नाना‘ टीबीएम  650 मीटर और तात्या टीबीएम 230 मीटर तक आगे बढ़ गए हैं। लगभग 990 मीटर लंबे टनल निर्माण के बाद दोनो ही टीबीएम को नयागंज मेट्रो स्टेशन के शुरूआती छोर (एलआईसी बिल्डिंग) पर बने रिट्रीवल शॉफ्ट से बाहर निकाला जाएगा। इन मशीनों को पुनः चुन्नीगंज में बने लॉन्चिंग शॉफ्ट से खुदाई के लिए अंदर भेजा जाएगा, जहां से नवीन मार्केट मेट्रो स्टेशन होकर आगे बढ़ते हुए वे बड़ा चौराहा मेट्रो स्टेशन तक टनल का निर्माण करेंगी। 

    • टॉप-डाउन प्रणाली से तैयार हो रहे हैं कानपुर मेट्रो के भूमिगत स्टेशन

    बता दें कि चुन्नीगंज-नयागंज भूमिगत सेक्शन के चारों मेट्रो स्टेशन टॉप-डाउन प्रणाली से तैयार किए जा रहे हैं, यानी निर्माण प्रक्रिया ऊपर से नीचे की ओर की जा रही है। भूमिगत स्टेशन का कॉनकोर्स लेवल यानि पहला तल जहाँ पर टिकट काउंटर्स एवं सुरक्षा जाँच बूथ आदि यात्री सुविधाएँ होती हैं, उपरिगामी स्टेशनों के कॉनकोर्स लेवल के ठीक विपरीत सड़क से एक तल नीचे होता है। इन स्टेशनों पर टॉप-डाउन प्रणाली से निर्माण के तहत सबसे पहले ऊपरी भाग यानी स्टेशनों के छत की ढलाई होती है, जिसके बाद कॉनकोर्स लेवल और फिर बेस लेवल का निर्माण होता है। बेस लेवल पर ही स्टेशन के प्लेटफॉर्म को बनाया जाता है। इस लेवल तक निर्माण सामग्रियों और एस्केवेटर मशीनों को पहुुंचाने के लिए प्रत्येक लेवल पर कटआउट्स बनाए गए हैं। निर्माणाधीन स्टेशन पर चल रहे काम से ट्रैफ़िक कम से कम प्रभावित हो, इसलिए यह प्रणाली अपनाई गई है ताकि रोड लेवल से शुरू करते हुए पहले तल का निर्माण होने के बाद सड़क पर लगी बैरिकेडिंग को कम किया जा सके। इसके बाद सड़क के नीचे स्टेशन का निर्माण कार्य चलता रहेगा और सड़क पर वाहनों की आवाजाही भी सुचारू रूप से जारी रहेगी।

    कानपुर मेट्रो के पहले कॉरिडोर (आईआईटी-नौबस्ता) के अंतर्गत चुन्नीगंज से नयागंज के बीच लगभग 4 किमी लंबे भूमिगत सेक्शन का निर्माण कार्य तेज़ी से जारी है। इस सेक्शन के अंतर्गत चार भूमिगत मेट्रो स्टेशनों; चुन्नीगंज, नवीन मार्केट, बड़ा चौराहा और नयागंज, का निर्माण किया जा रहा है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.