Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सम्भल। बाल्मीकि जयंती शोभायात्रा को प्रशासन ने रोका।

    उवैस दानिश\सम्भल। अनुमति तिथि के पाँच दिन बाद निकाली जा रही बाल्मीकि जयंती शोभायात्रा को प्रशासन ने रोका, पुलिस प्रशासन ने जनपद में धारा 144 लागू होने का हवाला दिया साथ ही कहा कि शोभायात्रा निकालने की अनुमति 09 अक्टूबर को थी, परंपरा के विपरीत जाकर आज निकाली जा रही थी, वहीं बाल्मीकि नेता ने पुलिस प्रशासन द्वारा रोकी गई शोभायात्रा को बाल्मीकि समाज का अपमान बताया है।

    पूरा मामला जनपद सम्भल थाना बनियाठेर क्षेत्र के कस्बा नरौली का है। जहां आज भगवान बाल्मीकि जयंती की शोभायात्रा निकाली जा रही थी, शोभायात्रा निकाले जाने की सूचना मिलते ही पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंच गया और शोभायात्रा को नहीं निकालने दिया, उधर शांति व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस और पीएसी बल को तैनात कर दिया गया, आपको बता दें कि बाल्मीकि जयंती शोभायात्रा निकाली जाने की अनुमति 09 अक्टूबर की मिली थी लेकिन आज गुरुवार को कस्बा नरौली में शोभायात्रा निकाले जाने की तैयारी चल रही थी, अखण्ड भारत महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष धर्मेंद्र विराट मौके पर मौजूद रहे तो वही, एएसपी श्रीश्चंद्र, सीओ दिनेश कुमार, एसडीएम राजपाल, थाना बनियाठेर प्रभारी कर्मपाल सहित भारी मात्रा में पुलिस बल मौजूद रहा। धर्मेंद्र विराट ने बताया कि एएसपी साहब से वार्ता हुई, उन्होंने यह कहा शासन का आदेश है जिस दिन का त्यौहार है उसी दिन होगा। मैंने कहा कि आपको शासनादेश की एक कॉपी भेजकर नोटिस जारी करना चाहिए था, एक तरह से बाल्मीकि समाज को अपमानित किया गया है, यहां के पुलिस प्रशासनिक अधिकारी द्वारा भगवान बाल्मीकि को अपमानित किया गया है, बाल्मीकि समाज का मानसिक शोषण किया गया है आर्थिक क्षति पहुंचाई गई है, धारा 4 के अंतर्गत अनुसूचित जाति एक्ट की हमने मांग की है उन अधिकारियों के खिलाफ जिन्होंने अपने कर्तव्य की अपेक्षा की। पुलिस के द्वारा हमें धमकाया जा रहा है भारत में लोकतंत्र है हमें भी धार्मिक अधिकारों की स्वतंत्रता है, हमारे मौलिक व धार्मिक अधिकारों का हनन पुलिस प्रशासनिक अधिकारी द्वारा किया गया है। मुख्यमंत्री को भी इस विषय को लेकर हम ज्ञापन भेज रहे हैं। एएसपी श्रीश्चंद ने बताया कि थाना बनियाठेर के नरौली में बाल्मीकि जयंती की शोभायात्रा 09 तारीख को निकाली जानी थी, आज लोगों द्वारा शोभायात्रा निकालने का प्रयास किया गया जो परंपरागत तरीके से नहीं निकाली जा रही थी। इस संदर्भ में लोगों से अपील की गई कि शोभायात्रा न निकाले और पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। इस दौरान जो भी कमियां रही उसकी जांच की जाएगी और कार्यवाही की जाएगी।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.