Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद। पिछड़ों अनुसूचित जाति जनजाति अल्पसंख्यक वर्ग को न्यायालयों में आरक्षण लागू किए जाने की वकालत की।

    इब्ने हसन ज़ैदी\देवबंद। आजाद समाज पार्टी काशीराम व भीम आर्मी एकता मिशन लीगल सेल के तत्वाधान में प्रथम अधिवक्ता सम्मेलन बहुजन समाज की न्यायपालिका में भागीदारी व संविधान का मूल लक्ष्य के शीर्षक की शनिवार को देवबंद के हाईवे स्थित एक होटल में आयोजन किया गया। जिसमें आजाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद ने अपने विचार व्यक्त करते हुए पिछड़ों अनुसूचित जाति जनजाति अल्पसंख्यक वर्ग को न्यायालयों में आरक्षण लागू किए जाने की वकालत की।कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुऐ चंद्रशेखर आजाद ने अपने वक्तव्य में कहा सर्वोच्च न्यायालय व उच्च न्यायालयों में एक विशेष वर्ग और कुछ विशेष परिवारों का कब्जा है,जो वर्षों से उच्च कानून व्यवस्था पर कब्जा जमाए हुए हैं। 

    कार्यक्रम मं चन्द्रशेखर आजाद का स्वागत करते अधिवक्तागण

    उन्होंने  कॉलेजियम सिस्टम को पूर्ण तरीके से भारतीय संविधान में निहित अवसर की समानता के विरुद्ध बताय उन्होंने कहा कि भारत सरकार को न्यायपालिका में ऑल इंडिया ज्यूडिशल सर्विस परीक्षा के जरिए नियुक्तियां करनी चाहिए यह परीक्षा आईएएस पीसीएस की तरह यूपीएससी द्वारा आयोजित की जानी चाहिए जिससे योग्य व्यक्तियों को आगे बढ़ने का उचित अवसर प्रदान हो सके’ चंद्रशेखर आजाद ने आर्थिक सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े हुए ओबीसी एससी एसटी और अल्पसंख्यक वर्ग के नागरिकों को उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालय में उचित अवसर प्रदान करने के लिए वहां भी आरक्षण नीति लागू किये जाने को कानूनी रूप से भारतीय समाज के लिए जरूरी बताया उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 229 के अनुसार उच्च न्यायालय के अधिकारियों और सेवकों की नियुक्ति के मामले में अधिकारियों और कर्मचारियों की नियुक्ति उच्च न्यायालय अपने राज्य के रूप में मानकर करता है। उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि अनुच्छेद 12 की परिभाषा में उच्च न्यायालय राज्य की श्रेणी में आता है तो इस प्रकार राज्य पर आरक्षण के प्रावधान लागू हैं। उसी तरह इस तर्क के आधार उन्होंने पिछड़ी जातियों अल्पसंख्यकों अनुसूचित जाति के लिए आरक्षण की जोरदार वकालत करते हुए कहा कि हम पार्टी के माध्यम से इसे लागू करा कर रहेंगे।भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन ने कहा कि भारतीय संविधान की मूल भावना है कि अंतिम पायदान पर मौजूद भारतीय नागरिकों तक सस्ता और सुलभ न्याय उपलब्ध हो हर गरीब को उचित न्याय मिले हमें ऐसी व्यवस्था खड़ी करनी होगी भीम आर्मी लीगल सेल का उद्देश्य गरीब वंचित पीड़ित व शोषित वर्ग को न्याय दिलाने में कानूनी मदद करना है।इस अवसर पर सुमित लांबा, छोटू रावण,रविकांत सूर्य आदित्य,आशु मोनू सहित बड़ी संख्या में अधिवक्ता मौजूद रहे। कार्यक्रम संयोजक रजनीश गौतम एडवोकेट ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.