Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। जश्ने ईद मीलादुन्नबी और मरहूमीन के नाम लेकर ईसाले सवाब और दुआए मगफिरत की गयी।

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। जश्ने ईद मीलादुन्नबी और मदरसे के मुताल्लिकीन,मुआवनीन,मुखलिसीन के हजारों मर्हूमीन के नाम लेकर बड़े पैमाने पर कुरान ख्वानी,दरूद ख्वानी,कलमा शरीफ इसाले सवाब के लिए महफ़िल का एहतिमाम मदरसा अल जामिअतुल इस्लामिया अशरफुल मदारिस गद्दियाना के खदीजतुल कुबरा हाल में हुआ जिसकी सदरात  आल इन्ड्या गरीब नवाज़ काउन्सिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना मो. हाशिम अशरफ़ी संस्थापक मदरसा अशरफुल मदारिस गद्दियाना ने की जिस वक़्त अशरफी साहब नम आँखों से दुआए मगफिरत कर रहे थे पूरा मजमा आब्दीदा हो कर बुलन्द आवाज़ से आमीन कह रहा था उन्होंने दुआ करते हुआ कहा कि अल्लाह मर्हूमीन को जन्नत मे आला मकाम आता फरमाए और उन्होंने बयान  करते हुआ कहा कि मौत दुनिया की सब से बड़ी सच्चाई है हर जानदार को एक दिन मरना है हदीसे पाक का मफहूम है मौत के बाद इंसान अमल नहीं कर सकता है मगर तीन चीज़ें बाक़ी रहती हैं सदक़ा ए जारिया,फायदे मंद इल्म, इल्म जिससे लोग फायदा उठायें,नेक औलाद जो माँ बाप के लिए दुआ करे हमें चाहिए कि हम अपनी ज़िन्दगी में ऐसे काम कर जाये कि आने वाली ज़िन्दगी में उसका फायदा मिलता रहे। 

    उन्होंने कहा जब किसी की मौत का वक्त करीब हो तो उसे कलमे की तलकीन करें और उन्होंने मीलादुन्नबी पे बयान करते हुए कहा कि मुसलमानों को अपने नबी से सच्ची मुहब्बत करना चाहिए क्यूंकि आप से मुहब्बत करना ही असल ईमान है और रसूल की मुहब्बत ही कामयाबी की ज़मानत है | इस से पूर्व कुरान पाक की तिलावत से महफ़िल का आगाज़ हाफिज़ आमिर  ने किया। खुर्शीद आलम मिम्बर कौंसिल,कारी फैसल अलीमी,कारी नौशाद अज़हरी,कारी मोहम्मद अहमद अशरफी, इस अवसर पर प्रमुख रूप से मौलाना महताब आलम मिस्बाही,कारी मुइनुद्दीन,मौलाना कासिम बरकाती,हाफिज सगीर आलम नायब क़ाज़ी शहर,हाफिज मिन्हाजुद्दीन क़ादरी अकील अहमद इंजीनियर,डाकटर नासिर खान,डाक्टर मोहम्मद इस्लाम,आदि उपस्थित थे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.