Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सम्भल। बिना हिज़ाब से समाज पर पड़ेगा बुरा असर: डॉ. बर्क

    उवैस दानिश\सम्भल। हिजाब मामले में दोनों जजों की अलग-अलग राय होने पर सपा सांसद ने बयान देते हुए कहा है कि समाज में हिजाब रहना चाहिए अगर हिज़ाब नहीं रहा तो समाज पर बुरा असर पड़ेगा। मजहबी मामलों में हर किसी समाज को फ्री रखना चाहिये। सरकार को मुल्क की फिक्र नहीं है। बेपर्दा रहने से समाज का नाम खराब होता है।

    डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क, सपा सांसद सम्भल

    सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने हिजाब मामले में कहा कि सबकी एक राय बने तब हम बताएंगे क्या करना है। एक तो हमारे फेवर में हैं। हम तो यही चाहते हैं हिजाब रहना चाहिये। अगर हिज़ाब नही रहा तो समाज पर बुरा असर पड़ेगा, इसीलिए इस्लाम ने समाज के अंदर जब लड़कियां जवान होने लगे, तो हिजाब के लिए कहा है क्योंकि लड़कियों के बेपर्दा रहने से लड़के भी जवान होते हैं समाज का माहौल खराब होता है। यह हमारा मजहबी मामला है इस्लाम का मामला है हम दूसरे मजहब वालों के लिए कोई पाबंदी नहीं लगवा रहे हैं। सरकार की पॉलिसी अपनी जगह है और मजहबी मामला अपनी जगह है। अभी तो नीचे दो राय चल रही है अब सुप्रीम कोर्ट की तीन जजो की बेंच अपना फैसला बताएं कि वह हिजाब की इजाजत मुस्लिम लड़कियों को देती है या नहीं देती है। मैं समझता हूं सरकार की पॉलिसी मुल्क की तरक्की के लिए, मुल्क को जोड़ने के लिए, एक साथ मिलकर रहने के लिए होनी चाहिये। इस किस्म की मजहबी मामलात में दखलअंदाजी करना समाज के उसूल के खिलाफ है। इस्लाम के मानने वाले कुरान को फॉलो करते हैं और करते रहेंगे। बीजेपी और आरएसएस किसी के मजहबी मामलात में क्यों दखल देती है। इससे आपस में समाज में बिगाड़ पैदा होगा। मुल्क में लोग भूखे मर रहे हैं, महंगाई आसमान को छू रही है, इस पर सरकार को कंट्रोल करना चाहिये। सरकार हिजाब पर टिकी हुई है हर किसी कौम का अलग अलग मसला है, वह जाने उनका काम जाने वह कैसे जीना चाहते है कैसे जिंदगी गुजारना चाहते हैं। पर्दे से गुजारना चाहते हैं या बेपर्दा गुजारना चाहते हैं। मजहबी मामलों में हर कौम को फ्री रखना चाहिये। इसमें किसी के लिए पाबंदी नहीं होनी चाहिए, लेकिन यह पाबंदी लगाकर मुल्क के समाज को बिगाड़ रहे हैं। मुल्क की तरक्की रुकी हुई है, लोग भूखे मर रहे हैं इसकी फिक्र होनी चाहिए, जो भी सरकार हो पहले जिंदगी गुजारने के लिए समाज को जो ज़रूरीयात है उन्हें पूरी करना चाहिये। जिस तरफ सरकार की निगाहें यह मुनासिब नहीं है। आरएसएस ने तो मुल्क का माहौल बिगाड़ रखा है। मुसलमानों के साथ जो जुल्म ज्यादती हो रही है। हमारे पैगंबर साहब की शान में जो गुस्ताखी हुई आज तक न मोदी न अमित शाह न सरकार का कोई भी जिम्मेदार आदमी ने ध्यान नहीं दिया। नूपुर शर्मा को पार्टी से निकाल दिया, निकालने से कोई हल नही होगा, उनके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई, कोई मुकदमा नहीं लिखा गया, आज तक वह अपनी जगह पर हैं। इन चीजों पर सरकार की पॉलिसी सही होनी चाहिए, जब गवर्नमेंट की पॉलिसी सही होगी और लोगों को अपना काम करने में आसानी होगी, तो मुल्क तभी सही होगा। राहुल गांधी मुल्क को जोड़ने के लिए इतनी बड़ी रैली निकाल रहे हैं, तो वह बिना वजह यह काम नही कर रहे हैं, बरहाल लोग उनसे जुड़ गए हैं। कोई भी मुल्क की तरक्की के लिए काम करेगा तो लोग उनसे जुड़ेंगे। अगर कोई बीजेपी का आदमी भूखा मर रहा है तो वह भूखा बीजेपी को क्यों सपोर्ट करेगा। वह उसे सपोर्ट करेगा जो उसकी मदद करेगा। बीजेपी सरकार से सब लोग तंग है परेशान हैं और सब चाहते हैं यह सरकार बदले और अच्छे हाथों में सरकार आये। ऐसी सरकार आये जो पब्लिक की तरक्की को काम करें और मुल्क को आगे बढ़ाने के लिए काम करें।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.