Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बलिया। हत्या के प्रयास में वांछित 03 आरोपियो पर एसपी ने किया पुरस्कारों की घोषणा।

     रिपोर्ट-सै० आसिफ हुसैन ज़ैदी

    भानु पर 25 छोटू और  धीरज पर 10-10 हजार का पुरस्कार घोषित। 

    बलिया। थाना कोतवाली क्षेत्र के रामपुर उदयभान मे पिछले 20 अक्टूबर की देर शाम हुई पार्टी  में कहा सुनी के दौरान चली गोली में जिसमें एक व्यक्ति को  लगी गोली, मामले मे पुलिस अधीक्षक बलिया ने वांछित चल रहे 3 अभियुक्तों के गिरफ्तारी पर पुरस्कार घोषित किया है। 

    दुर्गा प्रसाद तिवारी अपर पुलिस अधीक्षक

    ज्ञातव्य हो  कि प्रभारी निरीक्षक कोतवाली की आख्या  पर क्षेत्राधिकारी नगर की संस्तुति दिनांक 22.10.2022 को अपर पुलिस अधीक्षक,  दुर्गा प्रसाद तिवारी की संस्तुति दिनांक 22.अक्तूबर द्वारा अवगत कराया गया  कि हत्या के प्रयास से सम्बन्धित अभियुक्तगण छोटू  ,धीरज पुत्रगण कन्हैया निवासी रामपुर उदयभान थाना कोतवाली जनपद बलिया, और भानू दूबे पुत्र चन्द्रभूषण नि० महाकालपुर थाना गड़वार जनपद बलिया, जो थाना कोतवाली में पंजीकृत मुकदमा व अपराध सं0 549/2022 धारा 307,323 भादवि0 में वांछित चल रहे हैं, अभियुक्तगण शातिर किस्म के अपराधी हैं एवं काफी प्रयास के बाद भी इनकी गिरफ्तारी नहीं हो रही हैं, न ही आरोपी गण न्यायालय में हाजिर हो रहे है। इनके भय व आतंक के कारण जनता का कोई भी व्यक्ति इनके विरुद्ध कोई सूचना तक देने का साहस नहीं कर पा रहा है। ऐसी स्थिति इन तीनों अभियुक्तों पर पुरस्कार घोषित किया जाना आवश्यक है ।

     उपरोक्त आख्या के आधार पर पुलिस अधीक्षक  राज करन नय्यर द्वारा सम्यक विचारोपरान्त यह निर्णय लिया  कि उक्त अभियुक्त की गिरफ्तारी से सम्बन्धित परिणामजनक सूचना देने वाले अराजपत्रित पुलिस कर्मियों, ग्राम चौकीदारागण तथा जनता के व्यक्तियों को अपराधी के नाम के सम्मुख अंकित धनराशि की सीमा तक पुरस्कार प्रदान किया जायेगा। तदनुसार पुलिस रेगुलेशन के प्रस्तर 464 (क) में शासनादेश संख्या: 1461पी / 8-अनुभाग-61556/70 दिनांक 16.05.1972 एवं शासनादेश संख्या - 217 पी / छ: पु० - 6-1244 / 92 दिनांक फरवरी 03, 1994 के अनुक्रम में जारी शासनादेश संख्या: 1961 पी / छ: पु0-6-09-1176/2002 दिनांक 04.11.2009 में आंशिक संशोधन करते हुए  गृह सचिव के पत्र संख्याः गृह (पुलिस) अनुभाग -6 दिनांक सितम्बर 16, 2017 में निहित प्राविधानों के अन्तर्गत पुरस्कार दिये जाने की घोषणा की जाती है । घोषित पुरस्कार की धनराशि बजट सीमा के अन्दर दी जायेगी। इस सम्बन्ध में स्पष्ट किया जाता है कि उक्त अभियुक्त यदि पुलिस मुठभेड़ में मारा जाता है तो ऐसी दशा में जाँच की कार्यवाही पूर्ण होने के उपरान्त संतुष्टि की स्थिति में पुरस्कार दिया जायेगा । कालान्तर में शासन / पुलिस उच्चाधिकारियों द्वारा पुरस्कार की राशि में वृद्धि की जाती है तो यह आदेश स्वतः निष्प्रभावी हो जायेगा। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.