Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पलवल। पलवल s d m की गाड़ी पर चीता ने किया हमला।

    ऋषि भारद्वाज 

    पलवल। होडल के गांव भुलवाना के चमेली वन धाम मंदिर  में 6 दिनों से घुसा हुआ है चीता । इलाके में जायदा दहशत उस समय फैल गई जब रात के समय उप मंडल अधिकारी डाक्टर चिनार चमेली वन धाम के समीप बनाए जा रहे उझीना नहर पर पुल का निरीक्षण करने के लिए जा रही थी और उसी समय चीते ने उप मंडल अधिकारी की गाड़ी पर हमला करने की कोशिश की। जिसका लोगों ने गाड़ी के अंदर से  वीडियो बनाया। चीता के घुसने की वजह से इलाके में फैली दहशत। मंदिर की बनी के अंदर देखा गया चीता । क्षेत्र के लोगों ने  चीता की दहशत की वजह से खेतों पर और चमेली वन धाम के लिए जाने वाले रास्ते पर आना जाना किया बंद।  सूचना के बाद होडल थाना पुलिस मौके पर पहुंची और वन वाल्र्ड लाइफ  विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची और चीता को पकड़ने की कोशिश की जा रही है लेकिन अभी तक पकड़ा नही जा सका है । जीव जंतु विभाग की टीम द्वारा और जिला प्रशासन द्वारा चीते को पकड़ने के लिए जाल लगाए गए हैं। सूचना के बाद तहसीलदार संजीव नागर नायब तहसीलदार प्रेम प्रकाश गौतम भी मौके पर पहुंचे। दूर-दूर से चमेली वन धाम मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं ने भी मंदिर में दर्शन करने के लिए जाना किया बंद । चीते की वजह से पूरी तरह से क्षेत्र में बना हुआ दहशत का माहौल। जीव जंतु विभाग की टीम ने लोगों को जंगल में खेतों पर सावधानियां बरतें को कहा । 

    पलवल जिले के गांव भुलवाना में चमेली वन धाम मंदिर में 6 सितंबर को दिखाई देने के बाद गायब हुआ तेंदुआ शुक्रवार की रात अचानक होडल एसडीएम की गाड़ी के सामने आ खड़ा हुआ। जैसे ही एसडीएम के चालक ने गाड़ी पीछे हटाई तो तेेंदुआ गाड़ी के पीछे दौड़ लिया। एसडीएम रात को उस समय तेंदुआ के बारे में अधिकारियों से जानकारी लेने के लिए भुलवाना चमेली वन गई थीं। एक बार फिर से तेंदुआ दिखाई देने के बाद एसडीएम ने भुलवाना व आसपास के गांवों में मुनादी करा लोगों को घरों के अंदर रहने की अपील की। एसडीएम ने मौके पर ही वन विभाग की टीम को बुलवाकर तेंदुआ को पकड़वाने के आदेश दिए। एक बार फिर से तेंदुआ दिखाई देने के बाद आसपास के क्षेत्र के लोगों में भय बन गया है।

    आपको बता दें कि शनिवार सुबह तेंदुआ की खोज में जंगल के अंदर गई वन ‌विभाग की टीम को जगह-जगह जंगली सूअर, गाय, हिरण, नील गाय सहित अंदर जानवरों के शव भी मिले हैं। जगह-जगह तेंदुआ के पांवों के निशान भी वन विभाग की टीम को मिले। इसे देखते हुए वन विभाग की टीम ने रेवाडी से दो पिंजरा मंगवाकर जंगल में अलग-अलग स्थान पर रखवा दिया है तथा उसे पकड़ने के लिए पूरे प्रयास शुरू कर दिए हैं। एसडीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जंगल के अंदर प्रवेश कर तेंदुआ को खोजा जाए, ताकि उसे पकड़ा जा सके।भुलवाना स्थित चमेली वन में छह सितंबर को राम करीब साढ़े आठ बजे मंदिर गए कुछ श्रद्धालुओं को तेंदुआ दिखाई दिया था। तेंदुआ उस समय गाड़ियों की लाइट पड़ने तथा लोगों का शोर सुनकर जंगल में भाग गया था। उसी दिन से वन विभाग की टीम और प्रशासन तेंदुआ को खोजने में लगा हुआ है, लेकिन तेंदुआ का कहीं कोई पता नहीं लग पाया। शुक्रवार की रात करीब 8 बजे एसडीएम डॉ. चिनार चहल चमेली वन तेंदुआ से संबंधित जानकारी लेने के लिए अपनी गाड़ी में पहुंच गई। जैसे ही वे भुलवाना के पास पहुंची तो अचानक से तेंदुआ जंगल में से निकलकर एसडीएम की गाड़ी के आगे आ गया। तेंदुआ को गाड़ी के आगे देख चालक के हाथ-पांव फूल गए। एसडीएम के चालक ने तेंदुआ को देख अचानक गाड़ी को पीछे की तरफ करना शुरू कर दिया तथा गाड़ी को मोड़ लिया। गाड़ी मुड़ते ही तेदुआ पर भी एसडीएम की गाड़ी के पीछे भागने लगा। यह देख एसडीएम ने पुलिस व वन विभाग के अधिकारियों को गाड़ी से ही फोन किए तो वहां अधिकारी व लोगों की भीड़ जमा हो गई। यह देख तेंदुआ जंगल की तरफ भाग गया। जैसे ही भक्तों को पता चला कि मंदिर के अंदर जो बनी है उसके अंदर चीता आ गया है तो भक्तों ने भी मंदिर पर दर्शन करने के लिए जाना बंद कर दिया है । जैसे ही इसकी सूचना जिला प्रशासन को लगी तो जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और तहसीलदार संजीव नागर नायब  तहसीलदार प्रेम प्रकाश गौतम और पटवारियों की टीम के साथ जीव जंतु विभाग यानी वन वर्ल्ड  वर्ल्ड लाइव टीम भी  मौके पर पहुंची और उनके साथ होडल  थाना प्रभारी छत्रपाल सिंह भी अपनी पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे और वन वर्ल्ड लाइव टीम ने जंगल के अंदर चीते के पैरों के निशान भी देखें जहां उसकी पुष्टि की गई है । जब इस बारे में जीव जंतु विभाग के यानी वन वर्ल्ड लाइफ टीम के इंस्पेक्टर जयदेव से बात की तो उन्होंने बताया कि उनको सूचना मिली कि गांव भूलवाना के चमेली वन धाम मंदिर में जो जंगल है उसके अंदर चीता आ गया है जिसको लेकर वह अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे हैं और चीते के निशान भी पाए गए हैं । लोगों ने रात के समय उसकी वीडियो भी बनाई जो वीडियो की पुष्टि हो चुकी है।  इसके अंदर चीता आ चुका है। वन्य जीव जंतु विभाग के अधिकारी जयदेव ने  कहा की यहां  घना जंगल होने की वजह से चीते को पकड़ना बहुत ही मुश्किल है। क्योंकि उसके अंदर जाने के ऐसा कोई रास्ता नहीं है कि जिसके अंदर प्रवेश कर के चीते को पकड़ा जा सके । उन्होंने कहा कि इस जंगल के अंदर भारी संख्या में जीव जंतु रहते हैं जहां पर हजारों की संख्या में बंदर है बारह सिंगा हिरन है, नीलगाय हैं और जंगली सूअर है , जैसे काफी संख्या में जीव जंतु इस जंगल के अंदर है जो चीते के लिए पर्याप्त भोजन है।  उन्होंने कहा कि इसको पकड़ने के लिए दो जाल लगा दिए गए हैं। जिसको जल्द से जल्द पकड़ा जाएगा।  

    वही मौके पर पहुंचे तहसीलदार संजीव नागर ने कहा कि जैसे ही उनको सूचना मिली तो अपने नायब तहसीलदार प्रेम प्रकाश गौतम और  पटवारियों की टीम के साथ पुलिस प्रशासन के साथ मौके पर पहुंचे हैं और जीव जंतु विभाग की टीम को जल्द से जल्द चीते को पकड़ने के लिए कहा है।  उसके लिए जीव जंतु विभाग द्वारा दो जाल लगा दिए गए हैं। उन्होंने गांव भूलवाना के अंदर और आसपास के गांवों में मुनादी करा दी गई हैं कि जो लोग अपने खेतों पर काम करने के लिए जाते हैं और मंदिर में दर्शन करने के लिए जाते हैं उनको सावधानियां बरतनी पड़ेगी  क्योंकि चमेली वन धाम मंदिर के जंगल में चीता आ चुका है जो कभी भी किसी के ऊपर हमला कर सकता है ।  उन्होंने कहा कि लोगों को सावधानी बरतने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.