Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    किछौछा\अंबेडकरनगर। किछौछा दरगाह में दूषित भोजन करने से बिगड़ी पांच की हालत

    ........... एक स्थानीय और चार हैं पश्चिम बंगाल के निवासी

    किछौछा\अंबेडकरनगर। प्रसिद्ध सूफी संत मखदूम अशरफ सिमनानी के किछौछा स्थित दरगाह परिसर में बिना पंजीकरण चल रहे अवैध भोजनालय का काला कारनामा। सामने आया है। जहां के प्रदूषित और घटिया भोजन खाने से 5 लोगों की तबीयत बिगड़ गई। जिन्हें अस्पताल भर्ती कराया गया है। जिनमें एक की हालत गंभीर बताई गई है।

    मामला तब प्रकाश में आया जब एक स्थानीय के साथ-साथ पश्चिम बंगाल के चार जायरीन फूड प्वाइजनिंग के शिकार हो गए। आनन-फानन में उन सभी को स्थानीय सीएचसी ले जाया गया। जहां से एक को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। बाद में पता चला इन लोगों ने दरगाह परिसर के एक भोजनालय से भोजन किया था।

    फूड प्वाइजनिंग के शिकार लोगों में सानू खान निवासी निजामुद्दीननगर किछौछा के अलावा कनीजा बेग़म पत्नी मोहम्मद जमाल, राकिना बेगम पत्नी कलमुद्दीन, अंजलि पुत्री कलमुद्दीन, सभी निवासी थाना बाल पखौर जिला उत्तर जीनावपुर पश्चिम बंगाल व हमीदा पत्नी रज्जी शामिल है। जिसमें रज्जी का स्वास्थ्य ज्यादा बिगड़ने के कारण जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। बाकी चार मरीजों का बसखारी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज चल रहा है। संबंधित होटल से भोजन कर बीमार हुए 5 लोगों के सामने आने के बाद दरगाह परिसर में हड़कंप मच गई है।    

    अस्पताल में भर्ती जायरीन

    ऐसा ही एक मामला उर्स मेले के दौरान भी सामने आया था। जब घटिया मांसाहार परोसने का विरोध करने पर संबंधित जायरीन युवकों को प्रताड़ना का शिकार भी होना पड़ा था। यह शर्मनाक पहलू है कि इस धार्मिक स्थली पर जहां देश के कोने कोने से लोग जियारत को आते हैं उन्हें प्रदूषित और घटिया भोजन खाने को विवश होना पड़ रहा है। जिससे धन हानि के साथ साथ स्वास्थ्य को नुकसान हो रहा है। सवाल यह उठता है कि आख़िर ये मनबढ़ किसकी सह पर भोजनालय का संचालन कर रहे हैं। जो आवाज। उठाने वाले जायरीनों से मारपीट भी करते हैं।

    बात यह भी उल्लेखनीय है कि दरगाह किछौछा में लगभग सैकडो होटल संचालित हो रहे हैं। जिसके बारे में पूछे जाने पर खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग के वरिष्ठ अधिकारी राजवंश प्रकाश श्रीवास्तव ने बताया कि उर्स मेले के दौरान सभी भोजनालय के भोजन की सैंपलिग कराई गई थी और उर्स मेले के दौरान मारपीट या अन्य किसी प्रकार की शिकायत का मामला उनके संज्ञान में नहीं है। दूसरी तरफ इन 5 लोगों के बीमार होने के पीछे कुछ लोग डायरिया को कारण बता रहे है। फिलहाल मामला जो कुछ हो 5 लोग जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। जिस पर बाकायदा जांच की आवश्यकता है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.