Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    श्रावस्ती। जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में मतदेय स्थलों के सम्भाजन के सम्बन्ध में राजनैतिक दलों के साथ बैठक सम्पन्न।

    सर्वजीत सिंह\श्रावस्ती। जिलाधिकारी नेहा प्रकाश की अध्यक्षता में मतदेय स्थल सम्भाजन के सम्बन्ध में जनपद के संसद सदस्यों, विधान सभा सदस्यों तथा मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के अध्यक्ष/मंत्रियों के साथ बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आहूत की गई। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अर्हता तिथि 01.01.2023 के आधार पर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण और पुनरीक्षण पूर्व की जाने वाली कार्यवाहियों के अन्तर्गत मतदेय स्थलों का सम्माजन अधिकतम 1500 मतदाताओं के आधार पर कराये जाने के निर्देश दिये गये है।

    बैठक में जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 को दृष्टिगत रखते हुए प्रत्येक मतदेय स्थल पर कम से कम 1300-1350 तक मतदाता रखे जाय, जिससे आगामी निर्वाचन तक प्रत्येक मतदेय स्थल पर मतदाताओं की संख्या 1500 से अधिक न होने पाये, के दृष्टिगत 1500 मतदाता प्रति पोलिंग स्टेशन पर, आधार मानते हुए 1300 से 1350 प्रति पोलिंग स्टेशन मतदाता किये जाने है। सम्भाजन की कार्यवाही के दौरान एक मतदान केन्द्र पर 02 से अधिक मतदेय स्थल स्थापित हों, तो उनको यथा सम्भव 1500 मतदाता प्रति मतदेय स्थल के आधार पर समायोजित करने का प्रयास किया जाय ताकि मतदेय स्थलों की संख्या को कम किया जा सके।

    ऐसे मतदेय स्थल, जिन पर मतदाताओं की संख्या 500 से कम है, उनका भौतिक सत्यापन एवं तार्किक विश्लेषण करते हुए इस बात की सम्भावना का परीक्षण भी कर लिया जाये कि क्या ऐसे मतदेय स्थलों को किसी अन्य मतदेय स्थलों के साथ समायोजित किया जा सकता है। साथ ही यह भी परीक्षण कर लिया जाये कि निर्धारित सीमा से अधिक मतदाताओं वाले ऐसे मतदेय स्थल जहाँ उसी मतदान केन्द्र पर अन्य मतदेय स्थल भी है और उन मतदेय स्थलों में मतदाताओं की संख्या अपेक्षाकृत कम है तो स्थलों का सृजन किये बिना भौगोलिक रूप से क्षेत्र की सुसम्बद्धता बनाये रखते हुए विद्यमान बूथों पर ही मतदाताओं को पुनर्समायोजित कर दिया जाये।

    यदि कोई मतदेय स्थल प्राइवेट बिल्डिंग में संचालित है और उसके आस पास शासकीय बिल्डिंग बन गयी है तो उसमें परिवर्तित किया जाये प्राइवेट बिल्डिंग में यदि मतदेय स्थल बनाया जाना अपरिहार्य है तो उसके मालिक से अनुमति लिया जाना आवश्यक है। मतदेय स्थल किसी राजनैतिक दल के पदाधिकारी की बिल्डिंग में नहीं होना चाहिए।

    उन्होने बताया कि विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के समय मतदेय स्थल 289-भिनगा में 424 तथा 290-श्रावस्ती में 478 बनाये गये थे। समायोजन के पश्चात् भिनगा में 33 व श्रावस्ती में 40 मतदेय स्थल घटे है। आलेख्य प्रकाशन की तिथि 22.08.2022 के समय 289-भिनगा में 229 मतदान केन्द्र व 391 मतदेय स्थल है, तथा 290-श्रावस्ती में 267 मतदान केन्द्र व 438 मतदेय स्थल है। इस प्रकार जनपद में कुल 496 मतदान केन्द्र एवं 829 मतदेय स्थल है।

    उन्होने जनपद के समस्त राजनैतिक दलों के अपील किया है कि वर्तमान समय में मतदेय स्थलों की सूची में किसी प्रकार का कोई सुझाव हो तो प्रत्येक दशा में 02 सितम्बर, 2022 तक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी/उप जिलाधिकारी, भिनगा तथा इकौना को उपलब्ध करा सकते है।

    इस अवसर पर विधायक रामफेरन पाण्डेय, उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी कमलेश चन्द्र, उपजिलाधिकारी प्रवेन्द्र कुमार, उपजिलाधिकारी आशुतोष, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी छोटेलाल, महामंत्री रमन सिंह, जिलाध्यक्ष समाजवादी पार्टी सर्वजीत यादव, सांसद प्रतिनिधि प्रेमनाथ वर्मा, राष्ट्रीय लोक दल के राजकुमार ओझा, वरिष्ठ सहायक तुलसी रमण श्रीवास्तव, प्रधान सहायक सुनील श्रीवास्तव सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण/कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.