Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बैतूल। कोतवाल सुस्त खाईवाल मस्त,ये है हमारे बैतूल के हाल, आखिर कब होगी इन पर कठोर कार्यवाही उठ रहा ये सवाल? तेजतर्रार पुलिस कप्तान कब करेंगी कार्यवाही

    शशांक सोनकपुरिया\बैतूल। मध्यप्रदेश के बैतूल में इन दिनों सट्टा बाज़ार खूब फल फूल रहा है ,किसी का घर उजड़ जाए या उसके बच्चे सड़क पर आ जाएं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता केवल सट्टा खिलाने वालों की कोठियां बननी चाहिए । ऐसा ही कुछ खेल बैतूल सहित जिले में चल रहा चौराहे पर सट्टा लिखने का काम । जी हां हम आपको बताते चलें कॉलोनी ओर चौराहे में इस समय बेखौफ सट्टा खिलाया जा रहा है।  कई सट्टा खेलने वालों के घर बर्बाद हो चुके है। शराब में तो शराबी खुद के शरीर का नाश करता है और सट्टे में पूरे परिवार की बर्बादी होते है  बच्चे अपने बूढ़े माता-पिता की कमाई हुई दौलत पूरी सट्टा कारोबारी के घर चली जाती है बच्चे रोड पर आ जाते हैं तब उन्हें जाकर समझ पड़ती है कि हमने यह क्या किया और बाद में बड़े हादसे होते हैं।

    इनके हौसले इतने बुलंद हो गए हैं जिसमें इन को किसी भी प्रकार से कानून पुलिस एवं समाज का कोई डर नहीं रह गया है। सट्टा खेलने वालों को तो कुछ प्रॉफिट नहीं हुआ है मगर सट्टा खिलाने वालों के दिन दुगनी और रात चौगुनी जैसी हो रही है। गाड़ी घोड़े बंगले बन रहे। बैतूल के कुछ नगरवासी दबी जुबान से यह भी कहते हैं सट्टा खिलाने वाले कोई यूं ही और साधारण व्यक्ति नहीं है काफी शातिर और होशियार हैं और यही नहीं सट्टा खिलाने में जो आमदनी होती है उसका हिस्सा कुछ अन्य जगहों पर भी जाता है। सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि यह सट्टे का कारोबार व्हाट्सएप एवं क्रिकेट की लाइन पर इतने शातिर तरीके से किया जाता है की पुलिस यदि उनको पकड़ती भी है तो भी उनके पास किसी प्रकार का मैसेज पैसा वगैरा नहीं मिलता है जिसके अभाव में कुछ घंटों में पुलिस की गिरफ्त से बाहर हो जाते हैं और फिर यह गोरखधंधा धड़ल्ले से किया जाता है। कोठी बाजार, या मुर्गी चौराहे पर प्रतिदिन एक अनुमान के मुताबिक लगभग एक लाख से अधिक की खाई सटटा किंग द्वारा की जाती है। यहां पर सटटा किंग द्वारा अपने एजेन्ट चाय, पानठेला में बैठाए गए हैं।जो सेठ बनकर सबकी आंखों में धूल झोंककर सटटे की खाई कर रहे हैं। शहर में खुलेआम यह कारोबार खूब फल-फूल रहा है। शहर में सट्टा कारोबार का संचालन जोरो पर है। 

    विश्वसनीय सूत्रों ने बताया कि समाजसेवी कुछ छुटभैय्या नेताओं और आसपास के रसूखदारों की मदद से जुएं एवं सट्टे का कारोबार चल रहा है। यहां तक क्रिकेट मैच पर हर विकेट पर हर रन पर और हार जीत पर भी करोड़ों का सट्टा चलाया जा रहा हैं जिसकी भनक पुलिस को भी नहीं है इतने बड़े पैमाने पर क्रिकेट सट्टा चल रहा। हां यह जरूर है कि जो सट्टा शहर में चल रहा है वह आम जन को तो नजर आ रहा है लेकिन पुलिस को नजर नहीं आ रहा है यह समझ से परे.हैं । बैतूल में लंबे समय से इस कारोबार का संचालन हो रहा है लेकिन यहां तक वर्दी धारियों की पहुंच नहीं हो पा रही है और यही कारण है कि स्थानीय लोगों की मदद से सट्टा का कारोबार तेजी से फल-फूल रहा है। बेरोजगार युवाओं को सट्टा  कोटी बाजार पप्पू पट्टी और गणेश मंदिर मुर्गी चौक अम्मू ढीमर नगर सहित आसपास के क्षेत्रों में कई प्रकार के सटटा का धंधा संचालित किया जा रहा है। जिसके तहत लालच में आए लोगों से हजारों रुपए की लूट की जा रही है। जैसे टाइम बाज़ार,मिलन डे,कल्याण एवं नाइट मिलन सुबह 11 बजे से रात्रि 12 बजे तक सटटे की खाई की जाती हैं। यहां पाचो सटटे के अंक ओपन-क्लोज के नाम आठ टाइम खेले जाते हैं। जिनमे युवा बेरोजगार, 1 के 9 के चक्कर में अपना पैसा एवं समय दोनों बर्बाद कर रहे हैं। कार्रवाई के नाम पर भी खानापूर्ति की जाती है जिससे बड़ी आसानी से सट्टा खाईवाल पुलिस गिरफ्त से बाहर हो जाता है। और क्रिकेट सट्टा चलाने वाले तक पुलिस हमेशा ना कामयाबी रहती है। क्या बैतूल पुलिस कप्तान इन गोरखधंधे करने वालों को पकड़ेंगे या  पुलिस की ना कामयाबी के चलते ऐसे ही धंधा फल-फूल ने देंगे देखना होगा कि अब पुलिस प्रशासन क्या कार्रवाई करते हैं।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.