Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहांपुर। खुटार रेंज में तैनात रहे रेंजर डीएस, यादव पर शीशम का पेड़ कटाये जानें के लगे आरोप प्रत्यारोप।

    शाहजहांपुर। खुटार वन रेंज खुटार दुधवा टाइगर रिजर्व बफर जोन की मैलानी रेंज के कैंपस में एक विशाल शीशम का पेड़ काट दिया गया और वन अधिकारियों को भनक तक नहीं लगी जो कि चर्चा का विषय बना हुआ है। इससे पूर्व अभी कुछ सप्ताह पहले खुटार वन रेंज में तैनात रहे रेंजर डीएस यादव और वन दरोगा अशोक चतुर्वेदी पर जंगल की लकड़ी कटवाकर फर्नीचर बनबानें का आरोप लगा था जिसमे वन दरोगा अशोक चतुर्वेदी को निलंबित कर दिया गया था जो मामला अभी ठंडा भी नहीं हो पाया और एक बार फिर खुटार रेंज में तैनात रहे रेंजर डीएस, यादव पर आरोप प्रत्यारोप लगनें शुरु हो गए हैं। सूत्रों का कहना है, कि उन्होंने अपनें पद का दुर्पयोग करते हुए खुटार रेंज के कैंपस में लगे विशाल शीशम के पेड़ को खुद के लिए फर्नीचर बनाबानें के उद्देश्य से कटवाया है। जो वन विभाग की मैलानी रेंज एवं खुटार रेंज के अधिकारियों की मिलीभगत से बफर जोन की मैलानी रेंज के कैंपस में स्थित खुटार रेंज के ऑफिस के पीछे पड़ा हुआ है, इस विशालकाय शीशम के पेड़ की लंबाई लगभग 60 फीट बताई जा रही है,जिसको काट दिया गया है। जिसके बाद उक्त पेड़ को झाड़ियों में इस प्रकार छुपाया गया कि किसी को पता ना चल सके और मौका देख कर उसको वहां से गायब किया जा सके। 

    ज्ञात रहे कि बीती 14 अगस्त को शाहजहांपुर वन विभाग की सचल दल टीम ने मैलानी कस्बे के टिंबर व्यापारी के यहां छापा मारकर लकड़ी बरामद की थी एवं उसके विरुद्ध कार्यवाही भी की गई थी जांच के बाद वह लकड़ी खुटार रेंज के अधिकारियों द्वारा व्यापारी को साजिशन फसाने के उद्देश्य से भेजी गई थी यह सिद्ध हो जाने के बाद भी उच्च अधिकारियों द्वारा केवल खुटार रेंज के वन दरोगा दरोगा अशोक चतुर्वेदी के विरुद्ध निलंबन की कार्रवाई कर इतिश्री कर ली गई थी जबकि उक्त मामले में पूर्णतया दोषी रेंजर डीएस यादव को बचाने के लिए जांच अधिकारी द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

    खुटार रेंज में तैनात एक कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि रेंज परिसर से विशालकाय शीशम के पेड़ को काटने की सूचना टिंबर व्यापारी मामले में जांच करने आये जांच अधिकारी दिलीप श्रीवास्तव को दे दी गई थी फिर भी उनके द्वारा जानबूझकर कोई कार्यवाही नहीं की गई ना ही मैलानी रेंज के अधिकारियों को इस बारे में अवगत कराया गया है। जब इस संबंध में खुटार वन रेंज क्षेत्राधिकारी रमाकांत सक्सेना से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उक्त पेड़ कटने के संदर्भ में निवर्तमान रेंजर डीएस, यादव द्वारा बताया गया था कि यह शीशम का पेड़ मैलानी स्थित खुटार रेंज के बनें आवास पर झुका हुआ था जिसको कटवाने के लिए पूर्व में रहे मैलानी बफर जॉन मैलानी के रेंजर आरपी सिंह को पत्र द्वारा सूचना दे दी गई थी,जिसके बाद यह पेड़ कटवा दिया था जो अभी भी वैसे ही पड़ा हुआ है, वन रेंज खुटार पर जो भी आरोप लगाये जा रहे हैं, वह सभी निराधार और असत्य है। वहीं ख़बर लिखे जानें तक इस संदर्भ में शाहजहांपुर डीएफओ, प्रखर गुप्ता को फ़ोन लगाया तो उनका फ़ोन स्वीच ऑफ जा रहा था ।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.