Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद। बजरंगदल के प्रांत सयोंजक विकास त्यागी ने देवबंद दारूलउलूम के सम्मेलन पर की रोक लगाने की मांग।

    ............. मदरसों के सर्वे कराने के फैसले को बताया सही

    शिबली इकबाल\देवबंद। उत्तर प्रदेश योगी सरकार द्वारा प्रदेश के गैर मान्यता प्राप्त मदरसों का सर्वे कराए जाने की घोषणा की है इस सर्वे पर अफसोस जताते हुए विश्व प्रसिद्ध दारूल उलूम ने मदरसा संचालकों का सम्मेलन बुलाने का आह्वान किया अब बजरंग दल ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि इस सम्मेलन पर तत्काल रोक लगाई जाए बजरंग दल के प्रांत संयोजक विकास त्यागी ने मंगलवार को बयान जारी कर मदरसों के सर्वे को लेकर 24 सितंबर को दारुल उलूम देवबंद द्वारा आयोजित सम्मेलन पर रोक लगाने की मांग की है विकास त्यागी ने कहा की जब भी दारुल उलूम या दारूल उलूम से जुड़े हुए लोग कोई सम्मेलन आयोजित करते हैं तभी देश के किसी ना किसी हिस्से में अशांति फैलती है।विकास त्यागी ने सरकार द्वारा मदरसों का सर्वे किये जाने को स्वागत योग्य कदम बताया है।कहा कि सरकार को मदरसों का सर्वे करने का पूरा अधिकार है। क्योंकि प्रदेश भर में लाखों की संख्या में अवैध मदरसे संचालित हो रहे हैं और उनकी गतिविधि भी संदिग्ध है। इसलिए मदरसों का सर्वे बहुत आवश्यक है। विकास त्यागी ने कहा कि दाऊल उलूम द्वारा मदरसों के सरकारी सर्वो के विरुद्ध सम्मेलन बुलाना केवल सरकार पर दबाव बनाए जाने के प्रयास है इसलिए इस सम्मेलन पर तत्काल रोक लगाई जानी चाहिए।

    यह कहना है दारुल उलूम के मोहतमिम का

    दारुल उलूम के मोहतमिम मौलाना अबुल कासिम बनारसी नोमानी ने सोमवार को कहा था कि प्रदेश सरकार का यह निर्णय अफसोसनाक है। उन्होंने कहा था कि आगामी 24 सितंबर को देवबंद में उत्तर प्रदेश के लगभग 250 उन मदरसा संचालकों का इजलास होगा जो दारुल उलूम से संबद्ध हैं। उन्होंने कहा था कि सम्मेलन में  सर्वसम्मति से प्रदेश सरकार के इस निर्णय पर विचार विमर्श किया जाएगा। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.