Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बलिया। BJP के पूर्व मंत्री उपेंद्र तिवारी ने सपा के पूर्व मंत्री अम्बिका चौधरी पर जमीन कब्जा करने का लगाया आरोप।

    सैय्यद आसिफ़ हुसैन जै़दी

    बलिया। BJP के पूर्व मंत्री उपेंद्र तिवारी भारी भीड के साथ सदर तहसील पहुंचे कर फेफना भीटा के जमीन पर हो रहे अवैध निमार्ण कार्य को रुकवाने व पौराणिक पोखरा और भीटा की जमीन भूमाफियाओं से मुक्त कराने की मांग की है। 

    आपको बता दें कि सपा के पूर्व मंत्री अम्बिका चौधरी सपा सरकार मे राजस्व मंत्री होते ही कई सरकारी जमीन पोखरे , तालाब व भिटे की जमीन पे गलत तरीके से अपने व अपने परिवार के लोगो के नाम चढ़ावा लिए। अवैध कब्जा कर उस पर निर्माण कार्य शुरू कर दिया है। 

    उपेंद्र तिवारी ( पूर्व मंत्री)

    क्या है पूरा मामला 

    उपेंद्र तिवारी ( पूर्व मंत्री) ने बताया कि आज से दस बारह दिन पहले फेफना ग्राम सभा के निवासी गाँव के लोगो ने हमारे यहाँ फोन किया और कहा कि जो पौराणिक पोखरा और भीटा की जमीन जो फेफना मे थी उस जमीन पे कुछ प्रभावशाली लोग जो उत्तर प्रदेश सरकार मे जब समाजवादी पार्टी की सरकार थी तो मंत्री पद को भी सुशोभित किए थे वह लोग अपने पद का दुर्पयोग करते हुए समाजवादी की सरकार मे वो पोखरे , तालाब व भिटे की जमीन पे गलत तरीके से अपने व अपने परिवार के लोगो के नाम चढ़ावा  लिए। और इस लिए वहाँ पर दुकान बना रहे है किराये पर उठाने के लिए जैसे ही यह बात मुझे पता चला तत्काल मैने एसडीएम से बोला और हमने कहा की भीटा की जमीन है कुछ लोग कब्जा कर रहे है उसको रुकवा दें। एसडीएम ने उसे रुकवा दिया फिर अगला पक्ष आया होगा उन्होने कहा इस पर हमारा नाम है इसका रिकर्ड निकलवाया गया तो रिकर्ड मे 1345 और 1356  फ़सली मे यह रिकर्ड मे पाया गया की वह पोखरा, भीटा, तालाब की जमीन पे भीटा ही का नाम है चाहे वह 1290 फ़सली हो, 1356 फ़सली हो, या 1345 फ़सली हो उसपे भीटा और पोखरा तालाब का ही नाम है। 

    इसके बाद तहसील ने सज्ञान लिया उन्हे जहां से जैसे भी ताकत मिली हो कल अचानक 40 , 50 मजदूरो को लगा कर के और पूरी खानदान बैठ कर के एक दहशत फैला करके निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया। लगातार एसडीएम से बोला तहसीलदार से भी बोला अंत मे डीएम से बोला तो भी कल काम नहीं रुका, अंत मे सीआरओ ने कहा हमने आदेश कर दिया है एसडीएम ने कहा हमने आदेश कर दिया है लेकिन वहाँ पर काम चलता रहा। 

    फिर सुबह वार्ता मे मैने इस्पेक्टर से बात किया तो उन्होने कहा कि अभी तक राजस्व का कोई भी व्यक्ति नहीं पाहुचा है इसलिए काम चल रहा है। फिर मै तहसील मे आया हूँ एसडीएम से कहा है तब जाके काम रुका है। एसडीएम ने हमे अशवशन दिया है कि एक सप्ताह के अंदर जिन लोगो के नाम भिटे की जमीन पर है, उसको नियम मे जा कर के, भीटा, पोखरा,तालाब की जो पुरानी स्थिति है 1290,1356, 1345 फ़सली के आधार पर जो नाम इंदराज है वही नाम मै दर्ज करूंगा। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.