Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    विशेष आलेख। यूपी की बुलडोजरी गर्जना हनक-धमक के संग कर्नाटक पहुंची।

    अतुल कपूर (स्टेट हेड)

    विशेष आलेख। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अराजक तत्वों से निपटने की कार्यशैली अब अन्य प्रांतों के लिए एक अनुकरणीय मॉडल बन गई है। उत्तर प्रदेश की सीमाएं लांघकर योगी की बुलडोजरी हनक-धमक की गर्जना कर्नाटक तक पहुंच गई है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई का यह बयान कि हम योगी मॉडल अपनाने को तैयार हैं, इस बात की खुली गवाही दे रहा है। बोम्मई ने यह भी कहा कि यूपी की स्थिति के लिए योगी बिल्कुल सही मुख्यमंत्री हैं। कर्नाटक में भी स्थिति से निपटने के लिए अलग-अलग तरीके हैं और उन सभी का इस्तेमाल किया जा रहा है लेकिन अगर जरूरत लगी तो योगी मॉडल भी कर्नाटक में आ सकता है।

    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (चर्चित-बुलडोजर बाबा)

    आपको बताते चलें कर्नाटक के सीएम ने ऐसा बयान किन परिस्थितियों में दिया। मेंगलुरु में बीजेपी कार्यकर्ता प्रवीण की हत्या के बाद जिस तरह बीजेपी और संघ के भीतर से प्रतिक्रिया आई, उससे यह साफ हुआ कि बीजेपी और संघ परिवार एक बार फिर बोम्मई सरकार से नाखुश चल रहा है। सरकार पर आरोप है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं को सुरक्षा देने में वह असफल रही। इतना ही नहीं नाराज कार्यकर्ता योगी मॉडल का जिक्र भी कर रहे हैं। वह सोशल मीडिया पर भी योगी मॉडल का जिक्र करते हुए लिख रहे हैं कि यूपी में योगी आदित्यनाथ ने सख्त कदम उठाए हैं और किस तरह योगी ने अपराधियों को काबू में किया। किस तरह बुलडोजर का इस्तेमाल किया गया। इतना ही नहीं इन घटनाओं के साथ गैंगेस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर को भी एक उदाहरण बताया जा रहा है।

    कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई

    कर्नाटक के बीजेपी कार्यकर्ता योगी आदित्यनाथ की अराजक तत्वों के खिलाफ की जा रही बुलडोजरी गर्जना और ध्वस्तीकरण की नीति के मुरीद बन रहे हैं। 

    शुभ शासन की क्या पहचान।

     दुष्ट दमन, सज्जन उत्थान।।

    कर्नाटक के बीजेपी कार्यकर्ता यूपी मॉडल को कर्नाटक में लागू करने के लिए यह दलील दे रहे हैं। "शुभ शासन की क्या पहचान, दुष्ट दमन सज्जन उत्थान"। कार्यकर्ता परस्पर चर्चा में यह भी कह रहे हैं कि योगी ने यूपी में मुख्यमंत्री के तौर पर अपने पहले कार्यकाल में भी अपराधियों के घर पर बुलडोजर चलवाए थे लेकिन तब इसका उतना जिक्र नहीं हुआ। कहीं कहीं तो आलोचना भी हुई। विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने योगी पर तंज करते हुए उन्हें बुलडोजर बाबा भी कहा, लेकिन फिर वही बुलडोजर बाबा ही बीजेपी के लिए प्रचार के केंद्र बिंदु बन गए। 

    कुछ इस तरह की है यूपी मॉडल की हनक-धमक

    इसके अलावा कुछ दिनों पहले जब धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर का मसला गर्मा था, तब भी योगी ने आदेश जारी किया कि किसी भी धार्मिक स्थल से लाउडस्पीकर की तेज आवाज नहीं आनी चाहिए और बिना भेदभाव के धार्मिक स्थलों से अधिक संख्या में लगे लाउडस्पीकर उतरवा भी लिए थे। समझा जा रहा है कि कर्नाटक सरकार भी अब इसी शैली पर कार्रवाई करने का मन बना रही है। वे सावन में कांवड़ियों पर जगह-जगह पर की जा रही पुष्प वर्षा की एक नई उत्साहवर्धक परिपाटी का भी उल्लेख कर रहे हैं। देखना है यदि कर्नाटक में भी बुलडोजर गरजा तो वहां इसकी क्या क्रिया और प्रतिक्रिया होगी।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.