Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बलिया। स्वतंत्रता, समानता बंधुत्व और भाई चारा हमारे संविधान की मौलिक विशेषता है:-सुभाषिनी अली

    ........... हमारे संविधान में नफ़रत के लिए कोई स्थान नहीं  है.

    सैय्यद आसिफ़ हुसैन जै़दी\बलिया। पूर्व सांसद माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य, सुभाषिनी अली ने कहा कि बलिया क्रांतिकारियों की धरती है, यहां के अपने जुझारू संघर्ष और विद्रोह के तेवर को हमेशा कायम रखा। वे यहां के टाउन हाल बापू भवन में का बाबू नन्दन राय ममोरियल एंव वाचनालय उजियारघाट द्वारा प्रायोजित -भारतके लोक तंत्र और भाई चारे को बहुसंख्यकवाद की चुनौती और खतरे विषयक सेमिनार में अपने विचार व्यक्त कर रही थी। 

    सुभाषिनी अली, सदस्य पोलित ब्यूरो

    कहा कि यहां हिंदू-मुस्लिम ने मिलकर संघर्ष किया तो हमे आजादी हासिल हुई। कहा कि हमारे आजादी के आंदोलन के संघर्ष से हमारा संविधान निकला जिसको देश की जनता ने स्वयं को अर्पित किया। स्वतंत्रता, समानता, बंधुत्व और भाई चारा हमारे संविधान की मौलिक विशेषता है। हमारे संविधान में नफ़रत के लिए कोई स्थान नहीं  है, और आज की सत्ता नफरत को ही हथियार बना करके देश की संपदा को अपने दो साथियों अडानी अंबानी को सौंप रही है । जिसका जीता जागता नमूना देश में बढ़ती गरीबी,बेरोजगारी,महंगाई और अडानी अंबानी की संपत्ति है। उन्होंने पूंजीवादी व्यवस्था और दौलत की बढ़ती भूमिका ने हमारे लोकतंत्र को और कमजोर किया है। वर्तमान समय में सरकार चलाने वाले लोगो के  दिमाग को हैक कर लिया है, नफरत को हिंसात्मक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। 

    इस अवसर पर डा.अखिलेश राय,प्रो.सुमित कौशिक के इलावा सेमिनार में सपा के वरिष्ठ नेता अंबिका चौधरी ने दूरभाष के माध्यम से कहा कि बहुसंख्यकवाद की चुनौती कोई नई नहीं है, बल्कि आज अपने वीभत्स रूप में सामने आ रही है। सत्ता की बुलडोजर संस्कृति और अल्पसंख्यकों पर बढ़ते हमले का राजनीतिक संरक्षण उसकी स्वभाविक अभिव्यक्ति है। सेमिनार का शुभारम्भ कॉम. रामकृष्ण यादव ने कॉ. बाबू नंदन राय के कृतित्व और व्यक्तित्व पर प्रकाश डाल कर किया। अध्यक्षता कॉ. सुभाष चंद्र सिंह और संचालन कॉ.प्रेम नाथ राय ने किया।

    इस अवसर पर विभिन्न सामाजिक और राजनीतिक संगठनों के लोगों ने भरी संख्या में भाग लिया। जिसको  को सफल बनाने में रामजियावन यादव,रघुवंश, सेराज अजीत,प्रमोद,रवि श्रीवास्तव,लक्ष्मण गुप्ता, एच एन कुरिल एडवोकेट, देवेंदर राय,यशपाल सिंह,हर्ष कुमार,डॉक्टर एम इलियास,विजेंद्र पासवान,डॉ. हैदर अली आदि मौजूद रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.