Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। खास इमारत गुलाब बाड़ी, जहां पर सभी धर्म के लोग मॉर्निंग वॉक के लिए आते हैं, अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है गुलाब बाड़ी।

    देव बक्श वर्मा 

    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की धर्म नगरी अयोध्या में मर्यादा देखने को मिलती है  यहां पर कई धर्म के लोगों का धार्मिक स्थल है। हिंदू, मुस्लिम, सिख व ईसाई सबके तीर्थ स्थल हैं। कहीं पर जैनियों के तीर्थ स्थल हैं, तो कहीं पर सिखों के गुरुद्वारे हैं, कहीं पर मुसलमानों के ऐतिहासिक स्थल है तो हिंदुओं की पवित्र धर्म नगरी अयोध्या ही है। जहां पर भगवान श्री राम ने जन्म लिया था और यही से अपने परमधाम को चले गए थे। अयोध्या में भगवान श्रीराम का जन्म भूमि, हनुमानगढ़ी, कनक भवन, नागेश्वर नाथ मंदिर, श्रीरेस्वर नाथ मंदिर, राम की पैड़ी, नया घाट आज तमाम प्रमुख स्थल है।  जो अयोध्या  की शान एवं शोभा है।आमजनमानस केआस्था, श्रद्धा व विश्वास का केंद्र है  भारत की तपोस्थली भरतकुंड पर विराजमान है तो भगवान राम के परम धाम को जाने का स्थान गुप्तार घाट भी है। भगवान राम जहां दातून करते थे वह दातुन कुंड भी मौजूद है। जहां पर विद्या ग्रहण किया था वह विद्या कुंड है गुरु ऋगी ऋषि का आश्रम भी अयोध्या जनपद में विराजमान हैं। इसी अवध की नगरी में फैजाबाद शहर के बीच हृदय में बसा हुआ गुलाब बाड़ी भी है। जो अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है । 

    इमारत के चारों तरफ गुलाबों की बागवानी की गई है। फैजाबाद शहर किसी जमाने में अवध की राजधानी के रूप में मशहूर था, जिसको अब अयोध्या के नाम से जाना जाता है। भगवान राम के जन्म स्थान के नाते यह शहर पूरे विश्व में चर्चा का केंद्र रहता है। राम मंदिर के अलावा अयोध्या में ऐसे कई दार्शनिक स्थल हैं, जिनकी शोहरत पूरी दुनिया में है।

     ऐतिहासिक इमारत गुलाब बाड़ी यानी गुलाब का बागहै।गुलाब बाड़ी परिसर की खूबसूरती में यहां की बागवानी चार चांद लाती है। इमारत के चारों तरफ गुलाबों की बागवानी की गई है, जिसमें बेहद खूबसूरत अनेक प्रकार के गुलाब के पौधे लगाए गए हैं। इस बाग में लाल, गुलाबी, पीले, सफेद रंग के गुलाब खिलते हैं। गुलाब के  खिले हुए फूल  यहां आने वाले हर पर्यटक का दिल जीत लेते हैं। यहा पर स्थापित हैइस के गेट पर विशालकाय अशोक स्तंभ स्थापित है. कहा जाता है कि यह देश का अकेला ऐसा  स्मारक है, जहां पर अशोक स्तंभ लगवाया था। इतना ही नहीं शुजाउद्दौला ने अयोध्या शहर को ‘गुलाब बाड़ी’, ‘बहू बेगम का मकबरा’, ‘मोती महल’ जैसी खूबसूरत इमारतों का भी तोहफा दिया है। 

    सुबह शहर के लोग गुलाब बाड़ी में टहलने जाते हैं और गुलाब बाड़ी का पूरा आनंद लेते हैं। गुलाब के फूलों के बीच से होते हुए इमारत के चारों तरफ चक्कर लगाकर घूमते हैं और गुलाब बाड़ी के अंदर मौजूद पार्क में सुबह के मौसम का लुफ्त लेते हैं। यद्यपि गुलाब बाड़ी रंग रोगन के अभाव में रोनक खूबसूरती नहीं आ पा रही है। यह गुलाब बाड़ी की इमारत और उसके चारदीवारी गुलाब बाड़ी मैदान की चारदीवारी और गुलाबों के फूल की देखरेख सही ढंग से किया जाए तो अयोध्या फैजाबाद के हृदय में मौजूद गुलाब बाड़ी अपने में बड़ा अजूबा दिखाई पड़ेगा। गुलाब बाड़ी  की तरह  गुलाब बाड़ी  मैदान का वजूद हैं गुलाब बाड़ी मैदान की चारदीवारी टूट गई है पहले गुलाब बाड़ी के मैदान में सर्कस प्रदर्शनी जनसभा आदि सब खूब होते थे किंतु अब धीरे-धीरे प्रदर्शनी सर्कस का आना बंद हो गया है केवल जनसभा तक सीमित रह गई है यदि इसका सही ढंग से देखरेख कराया जाए थोड़ा से पटाई करा दिया जाए तो इसमें आए दिन सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रदर्शनी मेला लगते रहेंगे। बृहस्पतिवार की बाजार गुलाब बाड़ी के मैदान में लगती है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.