Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। पार्षद की जीवनी बच्चों के पाठ्य पुस्तकों में शामिल हो।

    कानपुर। झंडा गीत विजई विश्व तिरंगा प्यारा झंडा ऊंचा रहे हमारा  के रचयिता पद्मश्री श्यामलाल गुप्त पार्षद  स्मृति संस्थान व  उत्तर प्रदेश खादी ग्राम उद्योग महासंघ के  संयुक्त तत्वाधान में आज दिनांक 10 अगस्त 2022 फूल बाग पार्षद वाटिका में पार्षद जी की 45 वीं पुण्यतिथि मनाई गई और उनके व्यक्तित्व कृतित्व पर चर्चा की गई। मुख्य वक्ता सुरेश गुप्ता अध्यक्ष उत्तर प्रदेश खादी ग्राम उद्योग महासंघ ने अपने संबोधन मैं बताया कि  राष्ट्रीय कवि झंडा गीत रचयिता पद्मश्री श्यामलाल गुप्त  पार्षद जी का  जन्म 9 सितंबर  1895 को  ग्राम नरवल मैं हुआ था विशारद की शिक्षा प्राप्त कर उन्होंने फतेहपुर से अपना कार्य क्षेत्र बना लिया असहयोग आंदोलन शुरू करने के आरोप में गिरफ्तार होकर जेल चले गए एक व्यंग रचना लिखने में 500 का जुर्माना भी लगा गुप्ता ने कहा कि पार्षद जी की जीवनी बच्चों के पाठ्यक्रम पुस्तकों में शामिल किए जाएं जिससे कि बच्चों को पार्षद के व्यक्तित्व एवं कृतित्व के बारे में जानकारी हो सके।

    अरुण गुप्ता नाती पार्षद ने ने पार्षद को अपना आदर्श बताते हुए कहा कि पार्षद ने सामाजिक कार्यों में भी काफी बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया पार्षद जी ने विद्यालय ,अनाथालय, महिलाओं को रोजगार देने वास्ते गणेश सेवा आश्रम खादी उत्पादन केंद्र गणेश शंकर बालिका विद्यापीठ अन्य बहुत सामाजिक संस्थाओं की स्थापना कर संचालन किया स्त्री शिक्षा व विधवा विवाह के  पक्षधर थे, दहेज विरोध में सक्रिय योगदान दिया अनाथ बच्चों की शिक्षा हेतु निरंतर कार्य करते रहे पार्षद जी नवजीवन लाइब्रेरी में अपना सारा समय व्यतीत करते थे और वहीं पर गीतों की संरचना करते थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता सुरेश गुप्ता ने की संचालन रमेश गुप्ता सयोंजक व पार्षद के पौत्र ने किया कार्यक्रम प्रमुख रुप से सर्व श्याम देव सिंह ,छोटे भाई नरोना भारतेंदु पुरी अरुण  गुप्ता, सौरभ गुप्ता, अमर गुप्त  एडवोकेट, रमाकांत मिश्रा एडवोकेट ,राजेश गुप्ता, ज्ञानेंद्र गुप्ता, मोहम्मद उस्मान, प्रदीप यादव सुहैल चौधरी राकेंद्र मोहन  त्रिपाठी ,कुशाग्र गुप्ता, गुरु नारायण गुप्ता पार्षद मनोज गुप्ता विमल गुप्ता कश्यप गुप्त प्रेम चंद्र गुप्त संजय गुप्ता आदि लोग मौजूद थे। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.