Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    श्रावस्ती। जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जनपद में गो आश्रय के संचालन के सम्बन्ध में बैठक सम्पन्न।

    • सड़कों पर घूम रहे बेसहारा गोवंशों को पकड़कर किया जाए संरक्षित-जिलाधिकारी।

    सर्वजीत सिंह\श्रावस्ती। जिलाधिकारी नेहा प्रकाश की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में निराश्रित/बेसहारा गोवंश की समस्या के निदान हेतु गो आश्रय संचालन के सम्बन्ध में बैठक की गयी। जिसमें जनपद के निराश्रित/बेसहारा गोवंश से किसानों की फसलों के नुकसान एवं राष्ट्रीय राजमार्गाे पर आवारा गोवंश द्वारा उत्पन्न समस्याओं के निदान किये जाने हेतु समीक्षा की गई। शासन के निर्देश के क्रम में गो आश्रय स्थल की स्थापना, संचालन, क्रियान्वयन एवं प्रबन्धन के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा की गयी। जिलाधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को पशुओं की शत-प्रतिशत ईयर टैगिंग कराने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि गो-संरक्षण केन्द्रों में रहने वाले गोवंशों को कोई दिक्कत न होने पावे, इसके लिए चारा-पानी एवं उनके रहने के लिए छाया की व्यवस्था भी सुनिश्चित रहनी चाहिए, ताकि उन्हें गो-आश्रय केन्द्रों में कोई दिक्कत न होने पावे। उन्होंने कहा कि गोशाला में किसी भी तरह की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी, पशु खुले में नहीं रहेंगे। कहीं भी किसी जानवर को कोई हानि पहुंचती है तो सम्बन्धित चिकित्सक तत्काल जानवरों का उपचार करेंगे। उन्होंने निर्देश दिया कि ब्लॉक लेवल पर प्रत्येक गौशाला की अलग-अलग फाइल होनी चाहिए।

    जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि सड़क पर घूम रहे निराश्रित गोवंशों को पकड़कर संरक्षित किया जाए तथा गोवंश आश्रय स्थल में संरक्षित समस्त गोवंश पशुओं की शत-प्रतिशत ईयर टैगिंग कराना, नियमित निरीक्षण एवं पंजिका पर अंकन कराना सुनिश्चित किया जाए। उन्होने समस्त खण्ड विकास अधिकारियो को निर्देश दिया कि अपने-अपने ब्लाक में  चिन्हित जगहों पर नये अस्थायी गौशालाओं का निर्माण किया जाए। पुरानी गौशालाओं में जहां पर जगह निर्धारित की गई हो, वहां पर नये शेड बनाये जाएं, ताकि निराश्रित गोवंशों को रहने के लिए कोई दिक्कत न  हो। उन्होने जिला पंचायत राज अधिकारी एवं मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि संयुक्त रूप से टीम बनाकर सड़क पर घूम रहे गोवंशों को पकड़कर संरक्षित कर उनका  टैगिंग करा कर पोर्टल पर अपलोड कराना सुनिश्चित किया जाए। 

    जिलाधिकारी ने समस्त नोडल अधिकारियों, खण्ड विकास अधिकारियों/अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत को निर्देशित किया कि वह विकास खण्डवार नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों मे स्थापित अस्थाई गोवंश आश्रय स्थलों की सूचना कुल संरक्षित गोवंश पशुओं की संख्या, ईयर टैग किये गये पशुओं की संख्या, शेड (पूर्ण/निर्माणाधीन/साइज), हरा चारा/भूसा/स्वच्छ पानी/विद्युत/प्रकाश की उपलब्धता, अस्थायी गो आश्रय स्थल में भरण-पोषण हेतु प्राप्त धनराशि की सम्परीक्षण बिन्दुओं पर सूचना संकलित करके निर्धारित समयानुसार सूचना उपलब्ध कराना सुनिश्चित करायें। 

    बरसात को दृष्टिगत रखते हुए  गोवंशों को बीमारी से बचाव हेतु जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया है कि निराश्रित गोवंशों का टीकाकरण शत-प्रतिशत कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। जिन भी गौशालाओं में निरीक्षण के दौरान जैसे-गोवंश आश्रय मे पानी, शेड एवं विद्युत/प्रकाश एवं चरनी आदि की कमी पायी जाती है तो उसे तत्काल सूचीबद्ध कराया जाए तथा सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों के माध्यम से व्यवस्थाओं को दुरूस्त करा दिया जाए।ताकि गौशालाओं में गोवंशों को किसी प्रकार की कोई दिक्कत न होने पाए।

    इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह, उपजिलाधिकारी क्रमशः भिनगा प्रवेन्द्र कुमार, जमुनहा सौरभ शुक्ला, डी0सी0 एन0आर0एल0एम0, जिला पंचायत राज अधिकारी आनन्द प्रकाश, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 जयइन्द्र सिंह, उपनिदेशक कृषि कमल कटियार, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत सुभाष भारती, जिला विद्यालय निरीक्षक सन्त प्रकाश, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमिता सिंह, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका भिनगा यदुनाथ, सभी खण्ड विकास अधिकारीगण एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.