Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पटना\बिहार। पटना विश्वविद्यालय के छात्रों ने भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा वापस जाओ के नारे किया बुलंद ।

    प्रमोद कुमार यादव 

    पटना\बिहार। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा  के पटना विश्वविद्यालय पहुंचने पर वहां के गुस्साए छात्रों ने जे पी नड्डा गो बैक के नारो को बुलंद करते हुए अपनी वर्षो पुरानी मांग पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने का नारा बुलंद कर रहे थे। अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य सह क्षेत्रीय प्रवक्ता बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रो विजय कुमार मिठू, पूर्व विधायक मो खान अली, राम प्रमोद सिंह, बाबूलाल प्रसाद सिंह, विद्या शर्मा, अमरजीत कुमार, टिंकू गिरी, शिव कुमार चौरसिया, सुरेंद्र सिंह, विनोद उपाध्याय, सुजीत सिन्हा, मिथिलेश सिंह, श्रवण पासवान आदि ने कहा की बिहार के सबसे पुराने प्रतिष्ठित पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग मोदी सरकार से बिहार सरकार के मुखिया नीतीश कुमार सहित सभी राजनीतिक दलों, सामाजिक संगठनों, छात्र नौजवान संगठनों द्वारा लगातार किया जा रहा है, परंतु विगत आठ वर्षो में केंद्र सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है।

    नेताओ ने कहा की भाजपा अध्यक्ष जो पटना विश्वविद्यालय के छात्र रहे है, तथा इनके पिताजी भी यहां के प्रोफेसर से कुलपति तक के पद को सुशोभित किया है, इसलिए कल नड्डा साहब के पटना विश्वविद्यालय पहुंचने पर वहां के छात्र उत्तेजित होकर उन्हें वापस जाने को कहने लगे जो उनकी दिल की आवाज थी छात्रों को ऐसा लगा की जिस व्यक्ति का बच्चपन से लेकर छात्र जीवन इसी पटना में गुजारा हो,  पटना विश्वविद्यालय के छात्र रहे हो आखिर वो क्यों नही मोदी सरकार के आठ वर्षो के कार्यकाल में इस पुराने प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय  बनाने की मांग को पूरा करवा रहे हैं।

    नेताओ ने कहा की प्रधानमंत्री जी के पटना विश्वविद्यालय आगमन के समय सूबे के मुख्यमंत्री ने केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग की थी, जिस पर प्रधानमंत्री ने उन्हे इससे बड़ी चीज देने को कहा था, वो बड़ी चीज आज तक पटना विश्वविद्यालय को नहीं मिली। कांग्रेस नेताओ ने राज्य के सबसे पुराने प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय पटना विश्वविद्यालय को अविलंब केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग किया।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.