Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। बकाया 4 माह के वेतन को लेकर जिलाधिकारी से लागाई गुहार, इंसाफ ना मिलने पर होगा आंदोलन।

    इब्ने हसन ज़ैदी\कानपुर। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग में कार्यरत मुख्य सेविकाओं को माह अप्रैल, 2022 (4 माह) से वेतन का भुगतान नहीं किया गया जबकि एक मुख्य सेविका से 4-4 मुख्य सेविकाओं का कार्य लिया रहा है मुख्य सेविकाओं द्वारा एक दिन में 5 से 8 केन्द्रों की जियो टैगिंग भी की जा रही है, जिसके लिए उन्हें प्रतिदिन रु० 500/- से 1000/- तक धनराशि व्यय करनी पड़ रही है। उसके बाद भी एक ही केन्द्र की 4-4 बार जियो टैगिंग करना पड़ता है। मुख्य सेविकाओं को कोई टी०ए० भी नहीं मिलता है।  इन समस्त कार्यों के पश्चात भी मुख्य सेविकाओं को समय से वेतन का भुगतान भी नहीं किया जाता है। सदैव 2 से 3 माह बाद ही वेतन का भुगतान किया जाता है, जिससे मुख्य सेविकाओं को बहुत ही आर्थिक कठिनाइयों से जूझना पड़ रहा है। बच्चों के स्कूल की फीस समय से जमा न करने के कारण स्कूल से नाम काटने की नोटिस मिल रही है। साथ ही. फाइन भी भरना पड़ता है। बैंक में समय से लोन की किश्त न भरने पर उसमें भी ब्याज भरना पड़ता है। 

    यहाँ तक कि बिजली का बिल न भरपाने के कारण बिजली काटने की नोटिस भी प्राप्त हो गयी है।वित्तीय स्तरोन्नयन वेतनमान (ए०सी०पी०):- मुख्य सेविका संवर्ग को वर्ष 2016 से अब तक वित्तीय स्तरोन्नयन वेतनमान (ए०सी०पी०) का लाभ नहीं दिया गया जबकि नियमतः वर्ष में 2 बार (माह जनवरी व जुलाई) वित्तीय स्तरोन्नयन वेतनमान (ए०सी०पी०) की बैठक होने का प्राविधान है किन्तु बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग में विगत 6 वर्षो से वित्तीय स्तरोन्नयन वेतनमान (ए०सी०पी०) की बैठक नहीं हुई है। यदि इसके पश्चात भी वेतन वित्तीय स्तरोन्नयन वेतनमान (ए०सी०पी०) व पदोन्नति का लाभ दिनांक 15 अगस्त, 2022 तक नहीं दिया जाता है तो पूरे प्रदेश की मुख्य सेविकायें कार्य बहिष्कार व आन्दोलन के लिए बाध्य होगी!चंद्र बोनाल, कंचन लता ,सुनीता, बैस, अनीतासचान, सरोज सिंह, सुधा सचान, राम जानकी, आशा पाल , किरन कुमारी, बीना, सचान, सीमा सिंह, सुनीता कटियार, कल्पना,यादव, करूंणा सचान, इत्यादि महिलाएं उपस्थित रही।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.