Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    श्रावस्ती। बकाया वाहन स्वामियों के लिए एकमुश्त समाधान योजना।

    सर्वजीत सिंह\श्रावस्ती। सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी ने बताया है कि शासन द्वारा दिनांक 01.04.2020 अथवा उसके पूर्व पंजीकृत व्यवसायिक वाहनों पर देय शास्ति (विलम्ब शुल्क) में छूट प्रदान करने के लिए एकमुश्त समाधान योजना लागू की गयी है। इस योजना के अन्तर्गत बकाया वाहन स्वामियों को सहायक सम्मानीय परिवहन अधिकारी (प्रशासन) के समक्ष रूपये 1000/- की धनराशि के आवेदन शुल्क के साथ 27 जुलाई, 2022 तक आवेदन कर सकते है। इस योजना का लाभ वह वाहन स्वामी भी उठा सकते हैं, जिनके विरुद्ध बकाया कर एवं शास्ति की वसूली प्रमाण-पत्र जारी कर दिया गया हो। ऐसे वाहन स्वामी जिनकी वाहन को वित्त पोषक के द्वारा कब्जे में ले लिया गया हो। जिनके कर सम्बन्धी प्रकरण मा० न्यायालय/उप परिवहन आयुक्त (यात्रीकर ), उ०प्र०, लखनऊ के समक्ष लम्बित हो। ऐसे समस्त परिवहन यान जिनके स्वामी अथवा विधिक उत्तराधिकारी के विरूद्ध उक्त अधिसूचना अधिसूचित होने के दिनांक अर्थात 27.06.2022 तक कर एवं शारित हेतु वसूली प्रमाण-पत्र निर्गत किये गये हो। वित्त पोषक भी उनके द्वारा कब्जे में लिये गये वाहनों के लिए इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। इस योजना के अन्तर्गत वाहनों के प्रति बकाया कर की धनराशि को एकमुश्त अथवा किश्तों में जमा किया जा सकेगा।

    यदि वाहन स्वामी सम्पूर्ण बकाया धनराशि को एकमुश्त जमा करना चाहता है, तो सक्षम अधिकारी द्वारा जारी आदेश के दिनांक से 30 दिन के भीतर सम्पूर्ण धनराशि जमा कर सकते है। यदि किश्तों में जमा करना चाहते है तो आदेश जारी करने के दिनांक से प्रथम किश्त 21 दिन के भीतर (बकाया कर का 50 प्रतिशत), द्वितीय एवं तृतीय किश्त क्रमशः 28 व 35 दिन के भीतर (बकाया कर का 25-25 प्रतिशत) जमा करना होगा। यदि परिवहन यान के स्वामी द्वारा निर्धारित समय सीमा में बकाया कर जमा नहीं किया जाता है, तो उक्त यान के स्वामी पर 50 रूपया प्रतिदिन की दर से विलम्ब शुल्क आरोपित किया जायेगा।

    अधिसूचना द्वारा उक्त छूट हेतु निर्धारित समयावधि अर्थात तीन माह पूर्ण होने के पश्चात् यदि परिवहन यान के स्वामी द्वारा सम्पूर्ण बकाया धनराशि जमा नहीं की जाती है, तो सम्बन्धित परिवहन यान के स्वामी पर देय बकाया कर व शास्ति अधिसूचना निर्गत होने के पूर्व देय बकाया कर व शास्ति के अनुरूप होगा अर्थात उक्त यान के स्वामी को अधिसूचना के अन्तर्गत दी गयी छूट का लाभ प्राप्त नहीं होगा। यदि परिवहन यान के स्वामी द्वारा सम्पूर्ण बकाया की एक या दो किश्त जमा की जा चुकी है, तो उसके द्वारा की गयी आंशिक कर की धनराशि का समायोजन कुल बकाया देयों और शास्ति से किया जायेगा।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.