Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पलवल होडल। सी बी एस सी की परीक्षा में लड़कियों ने मारी बाजी।

    ऋषि भारद्वाज\पलवल होडल। सीबीएसई की बारहवीं कक्षा के घोषित हुए परिणामों में  शहर के बाबरी मोड़ पर स्थित स्पेक्ट्रम इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों को पछाड़ते हुए  छात्राओ ने अपना परचम लहराया। इसको लेकर स्कूल प्रबंधक द्वारा छात्र ,छात्राओं के लिए सम्मान समारोह रखा गया ।पहले ,दूसरे और तीसरे स्थान पर छात्राओं ने किया कब्जा। स्कूल की 12वीं कक्षा के सभी छात्रों ने मेरिट व प्रथम स्थान से परीक्षा पास की है ।स्कूल का परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहा।

    होडल स्कूल की प्रिंसिपल संगीता गोयल ने जानकारी देते बताया कि हर बार की तरह ही इस बार भी परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहा है साथ ही यह भी हमारे लिए ख़ुशी की बात है कि 12वीं कक्षा के सभी छात्रों ने प्रथम स्थान से परीक्षा पास की है ।उन्होंने कहा कि स्कूल के 7 छात्र छात्राओं ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक ,18 छात्रों ने 80 प्रतिशत से अधिक अंक वंही दस छात्रों द्वारा 70 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त कर स्कूल व परिजनों का नाम रोशन किया है। गोयल ने बताया कि इस वर्ष कुल 49 छात्रों ने सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा दी थी जिसमें प्रथम स्थान पर तीन छात्राओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज कर उन्हें काफी उत्साहित किया है।उन्होंने कहा कि छात्रा लीशा गोयल ने 95.4अंक प्राप्त कर विद्यालय में प्रथम स्थान व छात्रा योगिता ने 93.8 प्रतिशतअंक प्राप्त कर दूसरा स्थान के साथ छात्रा प्रिया ने 92.6 प्रतिशत तृतीय स्थान प्राप्त किया है।छात्रा अर्शिता 92.4,नन्दनी 92.2, पलक जैन 92 ,उमंग बिंदल ने 90 प्रतिशत अंक प्राप्त किए है।उन्होंने इसे लड़कियों की शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए स्कूल के द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की सफलता के रूप में देखा जा सकता है। गोयल ने कहा की हर बार की तरह अबकी बार भी छात्राओं ने इस परीक्षा में छात्रों को पीछे छोड़ते हुए बाजी मारी है हर स्थान पर छात्राएं छात्रों ने आगे रही है। प्रिंसिपल संगीता गोयल ने सभी छात्रों और उनके अभिभावकों को शुभकामनायें दीं और साथ ही स्कूल स्टाफ को उनकी मेहनत और लगन के लिए बधाई दी है। 

    जब इस बारे में प्रथम,दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वाली छात्राओं से बात की तो उन्होंने कहा की वह समय पर जो स्कूल के अध्यापकों द्वारा काम दिया जाता था वह उसको घर पर करती थी और रात के समय 6 से 7 घंटे तक पढ़ाई करती थी और उनकी मेहनत आज रंग लाई है। इन्होंने कहा की वह इसके लिए अपने माता पिता और अध्यापकों को इसका श्रय देना चाहती है। इनमे से किसी ने कहा की वह आगे सी ए बनना चाहती है तो किसी ने कहा वह आई ए एस बनना चाहती हैं। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.