Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    नैमिषारण्य\सीतापुर। सनातन संस्कृति का केंद्र है नैमिषारण्य तीर्थ : आचार्य राम महेश मिश्र

    नैमिषारण्य\सीतापुर। अठ्ठासी हजार ऋषि मुनियों की तपोभूमि नैमिषारण्य सनातन धर्म का प्राचीन केंद्र रहा है, यहाँ वैदिक काल से अध्यात्म और विज्ञान की शिक्षा का प्रमुख स्थान है, इसके पुराने गौरव को पुनः स्थापित किया जाना अत्यंत आवश्यक है, यह बातें भाग्योदय फाउंडेशन के अध्यक्ष आचार्य राम महेश मिश्र ने सत्यनारायण सन्नीद्धि मंदिर में आयोजित एक कार्यक्रम में दक्षिण भारतीय श्रद्धालुओं और ब्राह्मण बटुकों को सम्बोधित करते हुए कहीं। 

    नैमिषारण्य के सत्यनारायण स्वामी एम रामानुज कुमारी माताजी चैरिटेबल ट्रस्ट की प्रमुख माता जी ने  कार्यक्रम में पधारे महामंडलेश्वर धनेश्वर गिरी, निजानंद आश्रम  गाजियाबाद के सुदीप महाराज, एवं भाग्योदय फाउंडेशन के निदेशक जनसंपर्क एवं नैमिष स्थित श्री सत्यनारायण धाम के मुख्य समन्वयक श्रीमान मृगांक मोहन अग्निहोत्री का अंगवस्त्र ओढ़ाकर सम्मान किया । राम महेश मिश्र ने कहा कि नैमिषारण्य महातीर्थ से भारत भाग्योदय के विभिन्न शक्ति स्रोत फूटें। यहाँ से होने वाली कोई भी गतिविधि न केवल सम्पूर्ण भारतवर्ष बल्कि समूचे विश्व को प्रेरित व प्रभावित करेगी, हमारा ऐसा मानना है। आजादी के बाद पहली बार नैमिषारण्य तीर्थ को चहुंमुखी विकास की उच्च प्राथमिकता में लेने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद प्रेषित किया। इस अवसर पर दक्षिण भारत के श्रद्धालुओं ने मनमोहक नृत्य पेश किया।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.