Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बिजनौर। तहसीलदार के बिना ही गाड़ी लेकर रोड पर अवैध वसूली करता था धामपुर तहसील दार का ड्राइवर नदीम

    .............  खनन माफियाओं से मिली धनराशि पत्नी के खाते में जमा कर रहा था ड्राइवर

    ............. गूगल पे, फोन पे, पेटीएम से लेता था रिश्वत का पैसा, तहसीलदार ने की निलंबन की संस्तुति

    बिजनौर। खनन माफियाओं से सांठगांठ के आरोपों के चलते सुर्खियों में आए तहसीलदार के ड्राइवर द्वारा खनन माफियाओं से पिछले 2 वर्षों से वसूली गई लाखों रुपए की धनराशि को पत्नी के बैंक खाते में जमा कर रहा था। इतना ही नहीं तहसीलदार के ड्राइवर ने खनन माफियाओं से ईमानदारी से संबंध निभाते हुए ऑनलाइन गूगल पे, फोन पे, पेटीएम एवं चेक के माध्यम से भी सुविधा शुल्क वसूल कर ओवरलोड खनन माफियाओं की गाड़ी की एंट्री अपने पास दर्ज कर ली। अब जांच में फंसे शातिर ड्राइवर के कारनामे धीरे-धीरे परदे से बाहर आ रहे हैं।

    उल्लेखनीय है कि धामपुर तहसीलदार के सरकारी वाहन पर नदीम अहमद पिछले करीब 3 वर्षों से चालक के पद पर कार्यरत है। बताया जाता है कि खनन माफियाओं के संबंध तहसीलदार के ड्राइवर नदीम से इतने मधुर हो गए कि खनन माफियाओं ने बड़े बड़े अधिकारियों को दी जाने वाली सुविधा शुल्क की धनराशि चालक नदीम की पत्नी शहाना तथा नदीम के संयुक्त धामपुर स्थित पंजाब नेशनल बैंक  खाते में पिछले 2 वर्षों से जमा कर रहे थे। इतना ही नहीं खनन माफियाओं तथा ड्राइवर के बीच इतने मधुर व गहरे संबंध स्थापित हो गए कि रिश्वत का  पैसा चेक के माध्यम से भी कई बार लिया गया। बताया जाता है कि शातिर व मास्टरमाइंड नदीम काफी समय से धामपुर तहसीलदार के चालक के पद पर  कार्यरत होने के चलते क्षेत्र के सभी खनन माफियाओं से उसकी गहरी संबंध स्थापित हो गए थे। सूत्रों का दावा है कि ओवरलोड खनन गाड़ियों की प्रति माह एंट्री कराने के बदले खनन माफियाओं से ढाई हजार रुपये प्रति गाड़ी के हिसाब से वसूली होती थी। खनन माफियाओं से मिलने वाली सुविधा शुल्क के बदले ड्राइवर द्वारा जब कभी भी उच्च अधिकारियों का दबाव तथा छापेमारी होने से पहले सतर्क कर देता था। खनन माफिया तय बंधी बंधाई रकम देने के बाद बेखौफ होकर ओवरलोड वाहन दिन-रात चलाकर सरकार को लाखों करोड़ों रुपए के राजस्व चूना लगा रहे थे। 

    जांच में फंसे तहसीलदार के ड्राइवर तथा उसकी पत्नी के बैंक खाते में विगत 2 वर्षों में ही लगभग 21 लाख रुपए की धनराशि का लेनदेन सामने आने पर हड़कंप मचा हुआ है। बताया जाता है कि तहसीलदार का ड्राइवर अपने ऊपर होने वाली विभागीय कार्रवाई से बचने के लिए राजनीतिक गठजोड़ ढूंढ रहा है।

    विजय वर्धन तोमर धामपुर उप जिलाधिकारी
    • खनन की गाड़ी सीज होने पर  हुआ अवैध वसूली का खुलासा

    धामपुर। पिछले कई वर्षों से बेखौफ, निडर होकर खनन माफियाओं द्वारा बड़े स्तर पर  पूरे तहसील क्षेत्र में बड़े-बड़े डंपरो द्वारा खनन किया जा रहा था। सूत्रों का दावा है कि  पिछले कई दिनों से तहसीलदार धामपुर को चालक  द्वारा खनन माफियाओं से सांठगांठ व अवैध वसूली की जानकारी मिल रही थी। इस जानकारी के बाद तहसीलदार कमलेश कुमार जब भी कभी छापेमारी करने जाते तो वह ड्राइवर नदीम के स्थान पर किसी अन्य कर्मचारी के साथ निकल पड़ते थे। तहसीलदार की छापेमारी की भनक ड्राइवर को नहीं लग पा रही थी जिस कारण वह खनन माफियाओं को सतर्क नहीं कर पा रहा था, तथा पिछले 10 दिन से लगातार बड़ी संख्या में ओवरलोड अवैध खनन से भरे कई डंपर को तहसील द्वारा द्वारा  कार्रवाई की जा रही थी । उधर खनन माफियाओं द्वारा लगातार ड्राइवर के बैंक खाते में निर्धारित धनराशि पहुंच रही थी इसके बावजूद तहसीलदार द्वारा खनन माफियाओं पर की जा रही कार्रवाई से खनन माफियाओं के होश उड़ गए। बताया जाता है कि खनन माफियाओं द्वारा तहसीलदार को अपने बयानों में ड्राइवर नदीम द्वारा प्रति गाड़ी  सुविधा शुल्क देने के बाबत जानकारी दी गई तो उन्होंने पूरे मामले की पड़ताल की जिसमें ड्राइवर नदीम पर लगे आरोपों की पुष्टि होना पाया गया। इसी के चलते तहसीलदार कमलेश कुमार द्वारा ड्राइवर नदीम के निलंबन की संस्कृति कर दी गई।

    • खनन माफियाओं से संबंध के चलते हुई कार्रवाई : तहसीलदार

    धामपुर तहसीलदार कमलेश कुमार का कहना है कि आरोपी ड्राइवर  नदीम तथा उसकी पत्नी के संयुक्त बैंक खाते में पिछले 2 वर्षों में ही 21 लाख रुपए जमा होना पाया गया हैं। इसमें कुछ रुपए उसकी सैलरी अकाउंट से भी ट्रांसफर हुए हैं। उन्होंने बताया कि नदीम तथा उसकी पत्नी के संयुक्त पंजाब नेशनल बैंक के खाते  का स्टेटमेंट निकलवा कर गहनता से जांच की जा रही है। उन्होंने आरोपी ड्राइवर के निलंबन की संस्तुति करने की पुष्टि की है

    दिनेश कुमार प्रजापति 

    Initiate News Agency (INA), धामपुर जनपद बिजनौर


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.