Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बलिया। जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय में भारतीय अंग्रेजी लेखन पर राष्ट्रीय वेबिनार।

    सैय्यद आसिफ़ हुसैन जै़दी/बलिया। आज़ादी के अमृत महोत्सव' कार्यक्रमों की श्रृंखला में कुलपति प्रो. कल्पलता पाण्डेय के निर्देशन में जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग द्वारा ' सेवेंटी फाइव इयर्स ऑफ इंडियन राइटिंग्स इन इंग्लिश' विषय पर एक  राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। इस वेबिनार के प्रथम सत्र में व्याख्यान देते हुए प्रो. एस. जेड. एच. आबिदी, पूर्व विभागाध्यक्ष एवं संकायाध्यक्ष, लखनऊ  विश्वविद्यालय ने स्वातंत्रयोत्तर  भारत की उन 75 महत्त्वपूर्ण रचनाओं, जो क्षेत्रीय से राष्ट्रीय अस्मिता, मिथकीय से कारपोरेट कथा आदि विभिन्न विषयों और विचारों पर केंद्रित हैं, की विस्तार से चर्चा की। इन रचनाओं के महत्त्व को निर्धारित करते हुए उन्होंने भारतीय अंग्रेजी लेखन के स्वातंत्रयोत्तर विकासक्रम को समझाया। इस सत्र की अध्यक्षता डाॅ. आमोद कुमार राय,  एसोसिएट प्रोफ़ेसर, बुद्ध पी जी कालेज, कुशीनगर ने की। द्वितीय सत्र में व्याख्यान देते हुए प्रो. राजुल भार्गव, पूर्व विभागाध्यक्ष, अंग्रेजी, हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय ने  भारतीय अंग्रेजी लेखन की महत्त्वपूर्ण रचनाओं के साथ लोकप्रिय लेखकों जैसे चेतन भगत, रविंदर सिंह आदि के भी योगदान की चर्चा की। इसी क्रम में आपने शिव खेड़ा, सद्गुरु जैसे विचारकों के प्रेरणात्मक साहित्य को नज़रअंदाज न करने की सलाह भी दी क्योंकि इनकी रचनाओं ने कई व्यक्तियों का जीवन परिवर्तित कर दिया है। इस सत्र की अध्यक्षता डाॅ. श्रीकृष्ण राय, एसोसिएट प्रोफ़ेसर, एन. आइ. टी., दुर्गापुर, पश्चिम बंगाल ने की। 

    इस गोष्ठी में अतिथियों का स्वागत करते हुए डाॅ. पुष्पा मिश्र, निदेशक शैक्षणिक ने विषय प्रवर्तन भी किया। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन डाॅ. अजय चौबे, एसोसिएट प्रोफ़ेसर, अंग्रेजी ने किया। इस वेबिनार में डाॅ. प्रियंका सिंह, एसोसिएट प्रोफ़ेसर, समाजशास्त्र, डाॅ. राघवेन्द्र, डाॅ. नेहा,  डाॅ. ऋतंभरा दुबे आदि प्राध्यापकों के साथ विश्वविद्यालय परिसर और विभिन्न महाविद्यालयों के विद्यार्थी और शोधार्थियों सहित अन्य बुद्धिजीवी लोगों ने प्रतिभाग किया।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.