Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    वाराणसी। बीएचयू के ब्रोचा होस्टल में रहने वाले छात्र पर अलीगढ़ में एफआईआर।

    ............ छात्रावास के वार्डेन बोले उस दिन यही था विपिन यह मुकदमा निराधार

    वाराणसी। अग्निपथ स्कीम के विरोध में अलीगढ़ के टप्पल थाने की एक पुलिस चौकी में आग लगाने के आरोप में काशी हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र पर एफआईआर दर्ज हुआ है। बीएचयू में बीएससी सेकेंड सेमेस्टर के छात्र विपिन कुमार पर आरोप है वह घटना के दिन अलीगढ़ में हिंसा में शामिल था। जबकि के ब्रोचा हॉस्टल में रह रहे विपिन का कहना है कि घटना के दिन वह विश्वविद्यालय में ही था तो किस जुर्म में एफआईआर दर्ज की गई है। इस बारे में हॉस्टल के वार्डेन डॉ. राम सागर ने भी कहा कि यह एफआईआर पूरी तरह निराधार है। विपिन यहीं पर था। अलीगढ़ पुलिस को ऐसा झूठ नहीं फैलाना चाहिए। वहीं छात्र विपिन ने बताया कि वह 30 अप्रैल को ही वाराणसी आ गया था। तब से आज तक वहीं हॉस्टल में ही है। मेस के अटेंडेंस रजिस्टर में उसका साइन है। विपिन ने कहा कि 18 जून को उसके घर पर टप्पल थाने की पुलिस फोर्स पहुंची थी। एफआईआर कॉपी में उसका और भाई धीरज कुमार का नाम दर्ज था। यह मुकदमा देख परिजनों के होश उड़ गए। 

    आज विपिन ने जब टप्पल पुलिस से एफआईआर के बारे में बातचीत की तो इंस्पेक्टर ने थाने में सरेंडर करने का दबाव बनाया। विपिन ने कहा कि मेस की अटेंडेंस रजिस्टर देख लिजिए। गवाह में उसके दोस्त हैं। जिन्होंने उस दिन हॉस्टल में ही उसे देखा। इस तरह झूठ में एफआईआर दर्ज कराने का क्या तुक है। विपिन ने कहा कि घर वाले काफी परेशान हैं। उन्हें समझ नहीं आ रहा कि जब वह यहां था ही नहीं तो एफआईआर कैसे दर्ज किया गया। बताते चलें कि 17 जून को अग्निपथ योजना के विरोध में अलीगढ़- पलवल हाईवे स्थित कस्बा जट्टारी पुलिस चौकी में तोड़-फोड़ कर आग लगा दी गई थी। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने बड़ी मुश्किल से भागकर अपनी जान बचाई थी। वहां खड़ी पुलिस की गाड़ियों पर पथराव का तोड़ दिया गया था। इसके बाद टप्पल पुलिस उपद्रवियों की पहचान कर एफआईआर करने में जुटी हुई है। इस बीच एक एफआईआर विश्वविद्यालय के छात्र विपिन कुमार पर भी किया गया।

    Initiate News Agency (INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.