Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने की आई.आई.टी. कानपुर के निदेशक अभय करंदिकर के साथ मेट्रो से यात्रा।

    कानपुर। उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लि. (यूपीएमआरसी) के लिए आज का दिन बेहद खास रहा। प्रबंध निदेशक  कुमार केशव की आगवानी में आज एक विशेष अतिथि कानपुर मेट्रो से यात्रा करने पहुंचे। झकरकटी में कानपुर सेंट्रल-ट्रांसपोर्ट नगर भूमिगत सेक्शन के निर्माण कार्य का शुभारंभ करने के बाद उत्तर प्रदेश मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव पुरानी यादों को संजोने अपने पूर्व विश्वविद्यालय आई.आई.टी. कानपुर पहुंचे। विदित हो कि कुमार केशव ने आई.आई.टी. कानपुर से ही एम.टेक. किया है।

    इस अवसर पर उन्होंने आई.आई.टी. कानपुर के निदेशक अभय करंदिकर से भेंट की। विद्याअनुरागियों के बीच अपने आपको पुराने परिवेश में पाकर केशव ने खुशी जताई। उन्होंने कहा कि, ‘‘आई.आई.टी. कानपुर विश्वविद्यालय से मेरा विशेष भावनात्मक लगाव रहा है। यहां से शिक्षा प्राप्त करने के बाद मुझे इस शहर की सेवा का अवसर मिला। इस कैंपस में वापस आना मुझे हर्ष और रोमांच से भर देता है।‘‘ आई.आई.टी. कानपुर के निदेशक  करंदिकर भी अपने विश्वविद्यालय के पूर्व विद्यार्थी से मिल प्रसन्न हुए और कानपुर मेट्रो को शहर के विकास की दिशा में मील का पत्थर बताया। उन्होंने कहा कि, ‘‘यह हमारे विश्वविद्यालय के लिए गर्व का विषय है कि यहां से शिक्षा प्राप्त किए हुए बहुत से विद्यार्थियों ने कानपुर मेट्रो के निर्माण में अपना अमूल्य योगदान किया है।‘‘

    विश्वविद्यालय में हुई यह विशेष भेंट तब और भी खास हो गई जब  अभय करंदिकर ने भी कुमार केशव के साथ कानपुर मेट्रो से यात्रा की। आई.आई.टी. कानपुर से मेट्रो से सफ़र करते हुए केशव के साथ वे कानपुर मेट्रो डिपो पहुंचे। यात्रा के दौरान उन्हें स्टेशन एवं मेट्रो ट्रेन में किए गए सुरक्षा प्रावधानों और मौजूदा व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से अवगत कराया गया। ऑपरेशन्स के स्टाफ द्वारा उन्हें उन्हें ट्रेन में यात्रियों की मदद और सुरक्षा के लिए मौजूद फ़ीचर्स जैसे कि पैसेंजर इमरजेंसी अलार्म (पीईए) आदि के बारे में भी बताया गया। उन्हें बताया गया कि अगर उन्हें यात्रा के दौरान ट्रेन में किसी भी तरह की असुविधा या असहजता महसूस होती है तो वे दरवाज़ों के पास लगे पीईए बटन्स को दबाकर सीधे ट्रेन ऑपरेटर से बात कर सकते हैं। इस बटन को दबाने के बाद ट्रेन ऑपरेटर न सिर्फ़ उनकी आवाज़ सुन सकेगा, बल्कि सीसीटीवी के माध्यम से उन्हें देख भी सकेगा और अगले स्टेशन पर उन्हें मदद पहुँचा दी जाएगी।

    कानपुर मेट्रो डिपो स्थित ऑपरेशन्स कंट्रोल सेंटर (ओसीसी) में अधिकारियों ने मेट्रो सेवाओं के संचालन एवं निगरानी के लिए प्रयुक्त सेंट्रलाइज्ड सिस्टम के बारे में जानकारी दी जिसके माध्यम से 9 किमी. लंबे प्राथमिक सेक्शन (आईआईटी-मोतीझील) पर मेट्रो सेवाओं का संचालन एवं निगरानी किया जाता है। सभी स्टेशन एवं ट्रेनें लगातार ओसीसी के साथ संपर्क में रहते हैं और ओसीसी के दिशा-निर्देशों के अनुरूप ही संचालन सुनिश्चित करते हैं। ओसीसी में प्रो करंदिकर को कानपुर मेट्रो ट्रेन का मॉडल भेंट किया गया। मेट्रो स्टेशन और ट्रेन में की गईं विश्वस्तरीय सुरक्षा व्यवस्थाओं और मेट्रो स्टाफ़ के सहयोगी व्यवहार से प्रोफेसर करंदिकर अत्यंत प्रभावित हुए और मेट्रो की सुखद यात्रा के लिए  केशव का धन्यवाद किया।

    इब्ने हसन ज़ैदी

    Initiate News Agency (INA) , कानपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.