Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    श्रावस्ती। गुजरात के गांधीनगर में आकांक्षी जिलों के विकास से सम्बन्धित आयोजित कार्यशाला में जिलाधिकारी ने किया प्रतिभाग।

    ............ शिक्षा और स्वास्थ्य की बेहतरी से ही चहुमुखी विकास है सम्भव-जिलाधिकारी।

    श्रावस्ती। देश के अति पिछड़े 112 आकांक्षी जिलों में उत्तर प्रदेश के 8 जिलों में जनपद श्रावस्ती भी शामिल है। 10 जून 2022 को गांधीनगर, गुजरात में आकांक्षी जिलों (Aspirational Districts) पर संकेंद्रित कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) की कार्यशाला आयोजित की गई। पिछले चार वर्षों से Transformation of Aspirational Districts  के अन्तर्गत जनपद में पोषण और स्वास्थ्य, शिक्षा, आदि क्षेत्रों में कायाकल्प जैसी योजनाओं के माध्यम से परिवर्तन आया है। जिसमें Corporate Social Responsibility   के अन्तर्गत कारपोरेट सेक्टर से भी वित्तीय सहायता मिल रही है। इस वित्तीय सहायता से नीति आयोग द्वारा निर्धारित मानकों जैसे स्वास्थ्य व पोषण, शिक्षा, कृषि, जल स्त्रोत, वित्त एवं कौशल विकास के आधारभूत ढांचों के विकास के लिए कार्य किया जा रहा है। विगत 04 वर्षो में इस योजना के अन्तर्गत समस्त 112 आकांक्षी जनपदों में विकास कार्य कराये गये है। जिसके आधार पर इन जिलों की मानवीय सूचकांक रैंकिंग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। आमंत्रित किये गये प्रतिभागियों ने प्रथम सत्र में अपने जिलों में किये गये सफल प्रयोगों और आने वाली चुनौतियों पर विचार व्यक्त किये। 

    कार्यशाला में प्रतिभाग करने हेतु उत्तर प्रदेश से जनपद श्रावस्ती की  जिलाधिकारी नेहा प्रकाश को भी आमंत्रित किया गया था। उक्त कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि -’’शिक्षा और स्वास्थ्य को बेहतर करने पर ही समाज का विकास सम्भव है। समाज के चहुंमुखी विकास में अशिक्षा बाधक रही है। सरकार हर बच्चे को शिक्षा देने के साथ-साथ उनको स्वस्थ्य रखने के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार के मंशानुसार जिले में हर बच्चे को शिक्षा से जोड़ने तथा उन्हें स्वस्थ्य रखने हेतु कारगर कदम उठाये गये है। इससे निश्चित ही शिक्षा से वंचित हर बच्चे को शिक्षा से जोड़ने के साथ-साथ उन्हें स्वस्थ्य रखा जा सकेगा। जिले के विकास में और प्रगति लाकर जिले में शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में गुणात्मक सुधार लाया जा सकेगा। इसके अलावा उन्होने कारपोरेट सेक्टर से जनपद के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए योगदान देने का आह्वान भी किया।’’ 

    द्वितीय सत्र में भारत में गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा किये जा रहे विभिन्न क्रियाकलापों पर चर्चा की गई। इस संस्थाओं द्वारा कुपोषित बच्चों को पोषण युक्त भोजन उपलब्ध कराने व लोगों को सशक्त करने के लिए कार्य किये जा रहे है। संस्थाओं द्वारा किये जा रहे कार्य पिछड़े व गरीब लोगों के जीवन में परिवर्तन ला रहे है। इस सत्र में संस्थाओं द्वारा स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा पर किये गये कार्यो को अतिथियों के समक्ष प्रस्तुत किया गया। कार्यशाला में जिलाधिकारी श्रावस्ती के अतिरिक्त गुजरात राज्य के जनपद नर्मदा के कलेक्टर/आई0ए0एस0  डी0ए0 शाह, बिहार राज्य के जनपद मुजफ्फरपुर के डी0डी0सी0 आशुतोष द्विवेदी, आई0ए0एस0, गुजरात राज्य के जनपद दहोड़ के जिला योजना अधिकारी एस0जे0 पाण्डेय, असम राज्य की जिला कार्यक्रम अधिकारी नयना पराशर आदि ने भी अपना विचार व्यक्त किया। उक्त कार्यशाला में जनपद श्रावस्ती के जिला विकास अधिकारी विनय कुमार तिवारी ने भी प्रतिभाग किया।

    सर्वजीत सिंह

    Initiate News Agency (INA), श्रावस्ती यूपी

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.