Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। टेल तक पानी पहुंचाना सरकार के लिए चुनौती, बड़ी नहर में पानी लेकिन माइनर सूखे

    • मंहगे सिंचाईं के साधनों से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें गाढ़ी..
    • आद्रा नक्षत्र में 22 जून को सूर्य के प्रवेश करते ही मानसून के आसार, बादलों ने डाला डेरा
    • मौसम वैज्ञानिकों का भी अनुमान ज्योतिष से मेल खा रहा..

    ओम प्रकाश सिंह/अयोध्या। सरकार का दावा तेल तक नहर का पानी पहुंचाने का है लेकिन वह जुबानी जमा खर्च ही है। बड़ी नहरों में पानी तो आया है लेकिन सफाई ना होने से खेतों में पानी पहुंचाने वाली छोटी नहरें सूखी हैं। आसमान में बादलों ने डेरा डाल दिया है, किसानों को मानसून का ही भरोसा है।

    ज्योतिष गणना के अनुसार 22 जून से मानसून के आसार हैं जो फलित दिखाई पड़ रहा है आसमान में बादलों ने डेरा डाल दिया है और किसानों के मुरझाए चेहरों पर अब चमक दिखाई पड़ने लगी है। मुख्य नहर में सरकारी पानी छोड़ दिया गया है लेकिन इससे निकलने वाली माइनर में सिल्ट की सफाई ना होने से टेल तक पानघ पहुंचाने का दावा हवाई ही है। 

    ज्योतिष और मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि 22 जून से मानसून रंग दिखाएगा। अक्टूबर के महीने तक कुल मिलाकर 53 दिन बारिश का अनुमान है। इन्हीं अनुमानों के आधार पर किसी शायर ने लिखा है कि आज की शाम गुज़ारेंगे हम छतरी में, बारिश होगी ख़बरें सुन कर आया हूँ। मई और जून की तपती गर्मी से खेत की माटी नंगे पैरों को जला रही है। नहरों में पानी नहीं है तो सिंचाई के महंगे साधनों ने किसानों की कमर तोड़ दी है। 

    पानी के इंतजार मे कुछ किसानों ने धान की रोपाई के लिए बेरन भी देर से डाला है। अधिकांश किसानों की बेरन रोपाई के लिए तैयार है। सिंचाई पानी के सरकारी इंतजाम से इतर किसान आसमान की ओर टुकटुकी लगाए बादलों का इंतजार कर रहा है। जुलाई के पहले हफ्ते में ही ज्वार बाजरा अरहर मूंग तिल की बोवाई लिए भी किसान पानी का इंतजार कर रहा है समय से पानी ना मिला तो इन फसलों के दानों और पैदावार पर असर पड़ेगा। खेत जोत बखर नहीं पाने से खेतों में घास खरपतवार बढ़ जाने का डर उन्हें सता रहा है। यदि अभी से वह खेतों को आगे आने वाली फसल के लिए तैयार नहीं कर पाये तो समय पर बोआई भी नहीं हो पायेगी जिसमें उनकी फसल की पैदावार कम होने की चिंता उन्हें सता रही है। 


    बारिश के अभाव में हो रहे नुकसान से किसानों की वर्ष भर की दिनचर्या को गड़बड़ा सकती है। वहीं ज्योतिष जानकारों का कहना है कि सूर्य का आद्रा नक्षत्र में प्रवेश 22 जून को होगा। इसी के साथ वर्षाकाल की शुरुआत होगी। उनके अनुसार सूर्य के आद्रा प्रवेश के साथ ही वर्षा ऋतु शुरू होती है। मौसम वैज्ञानिकों का भी अनुमान है कि इस बार मानसून का आगमन भी 22 जून के आसपास ही हो रहा है। अनुमान है कि जून में 6 दिन, जुलाईं में 15 दिन, अगस्त में 14 दिन, सितम्बर में 14 दिन, अक्टूबर मे 4 दिन कुल मिलाकर 53 दिन बारिश होगी।

    इस बार रोहिणी का वास पर्वतीय होने के कारण खंडवृष्टि के योग बनेंगे। इस बार आद्रा प्रवेश धनु लग्न में हो रहा है। इसके साथ ही लग्नेश गुरु स्वयं की राशि मीन में रहेंगे, इस लिहाज से फसलों के अनुकूल बारिश होने का अनुमान है। मौसम वैज्ञानिकों और ज्योतिष की भविष्यवाणी पढ़कर किसान की चिंता कुछ कम होती है लेकिन सरकारी मशीनरी अपना दायित्व ठीक से निभाए तो देश का अन्नदाता भी खुशहाल हो सकेगा।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.